Skip to main content

विज्ञान को विज्ञान की तरह नही अपितु उसको विभिन्न विधाओं में समझाना चाहिए- देवेन्द्र मेवाड़ी


 हरिद्वार।कमल मिश्रा-गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय में राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के अवसर पर सात दिवसीय विज्ञान सर्वत्र पूज्यते कार्यक्रम के दूसरे दिन कई एक्सपर्ट ने विज्ञान विषय पर अपने अपने व्याख्यान प्रस्तुत किए। जिसमे मुख्य रूप से देश के जाने-माने विज्ञान लेखक एवं विज्ञान संचारक एवम प्रसिद्ध साहित्यकार देवेन्द्र मेवाड़ी जिन्होंने हाल में भी विज्ञान प्रसार और विज्ञान चेतना पर व्याखान दिया। उनके इस विज्ञान लेखन के लिए उन्हें भारत सरकार द्वारा साहित्य अकादमी पुरस्कार भी प्राप्त हुआ है। विज्ञान एवं पत्रकारिता के क्षेत्र में उनका एक विशिष्ट स्थान है। विज्ञान विषयक लेखन और उनके यात्रा वृतान्त की पुस्तकें भी प्रकाशित ही चुकी। उनके दीर्घकालीन सक्रिय विज्ञान लेखन ने समाज में विज्ञान की जागरूकता फैलाने में अपूर्व योगदान दिया है मेवाड़ी जी के शब्दों में वह साहित्य की कलम से विज्ञान लिखते हैं जिससे उनका लिखा विज्ञान सरस होता है और आमजन को किस्से कहानी की तरह रोचक लगने लगता है। लेखन के इन प्रयोगों को इनकी प्रमुख कृतियों में भी देखा जा सकता है। जैसे कथा कहो यायावर, राही में विज्ञान का, विज्ञान वेला में ,विज्ञान की दुनिया, दिल्ली से तुंगनाथ वाया नागनाथ, नाटक नाटक में विज्ञान, विज्ञान और हम, विज्ञान नामा, मेरी विज्ञान डायरी एक,मेरी विज्ञान डायरी दो,मेरी प्रिय विज्ञान कथाएं, फसलें कहे कहानी,विज्ञान बारहमासा,विज्ञान जिनका ऋणी है, सूरज के आंगन में,सौर मंडल के शहर, आदि विज्ञान को समझाने के लिए पुस्तकों का लेखन किया है। आज के व्याख्यान के दौरान मेवाड़ी जी ने कहा की हमें विज्ञान को विज्ञान की तरह नही अपितु उसको विभिन्न विधाओं में समझाना चाहिए। हम विज्ञान को साहित्य के रूप में, कविता के रूप में, और कहानियों के रूप में भी समझा सकते हैं जिससे कि बच्चा भी उसको आसानी से समझ सके। उन्होंने कहा की मैने अपनी पुस्तकों में विज्ञान को सरलता से समझाने का प्रयास किया है। एक बार बच्चो को इन पुस्तकों के बारे में बताया जाय। इस अवसर पर कार्यक्रम संयोजक प्रोफेसर हेमवती नंदन पांडे ने बताया कि आज का युग विज्ञान का युग है हमारे देश के वैज्ञानिकों ने विज्ञान के माध्यम से कई क्षेत्रों में वैज्ञानिक चमत्कार किए हैं। विद्यार्थियों को दृष्टिगत रखते हुए गुरुकुल  कांगड़ी विश्वविद्यालय में भी समय≤ विज्ञान संबंधित सेमिनार एवं कार्यशाला आयोजित होती रहती है। इस वर्ष भी 28 तारिक को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के अवसर पर विश्वविद्यालय द्वारा 22 फरवरी से एक सात दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है। जिसका समापन 28 तारीख राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के दिन किया जाएगा।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

स्वामी नारायण आश्रम में गुरु पूर्णिमा पर्व की तैयारियां शुरू

  हरिद्वार। सिदाश्रम साधक परिवार (निखिल मंत्र विज्ञान) के तत्वावधान में भूपतवाला स्थित स्वामी नारायण आश्रम में 12 एवं 13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा महोत्सव का विशाल आयोजन किया जाएगा। परमहंस स्वामी निखिलेश्वरानंद (डा.नारायण दत्त श्रीमाली) व माता भगवती की दिव्य छत्र-छाया एवं पूज्य गुरुदेव नंदकिशोर श्रीमाली के सानिध्य में आयोजित किए जा रहे दो-दिवसीय महोत्सव की तैयारियों को लेकर मंगलवार को आश्रम में निखिल मंत्र विज्ञान के संयोजक मनोज भारद्वाज की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में गुरू पूर्णिमा महोत्सव की तैयारियों पर चर्चा की गयी। बैठक में कार्यक्रम के मीडिया प्रभारी विजय कुमार झा,गोपाल सैनी, डा.एम.के.तिवारी,शैलेन्द्र शैली,राकेश गुप्ता,नागेन्द्र सिंह,अमर उपाध्याय,लोकेश,बलवान सैनी आदि प्रमुख रूप से शामिल हुए। मनोज भारद्वाज ने बताया कि गुरु पूर्णिमा शिष्य और गुरु के मिलन का समारोह है। गुरु पूर्णिमा के अवसर पर शिष्य अपने पूज्य गुरुदेव के श्रीचरणों में अपना मनोभाव समर्पित करते हैं। उन्होंने बताया कि दो दिवसीय समारोह में देश-विदेश से हजारों की संख्या में आने वाले निखिल शिष्यों का समागम होगा। महोत्सव को