Skip to main content

देवर को मात देकर ममता ने लगाई हैट्रिक

 क्षेत्र के विकास के सपने को पूरा करने का कार्य करूॅगी-ममता राकेश

हरिद्वार। भगवानपुर विधानसभा सीट पर भाभी ममता राकेश ने बहुजन समाज पार्टी प्रत्याशी एवं अपने देवर सुबोध राकेश को करारी शिकस्त दी। जीत के बाद ममता राकेश ने कहा कि वह अपने दिवंगत पति के सपनो के साथ जनता के अपेक्षाओं को पूरा करने का कार्य करेगी। कांग्रेस प्रत्याशी ममता राकेश ने जीत की हैट्रिक लगाने के साथ ही यह भी साबित कर दिया है कि वो ही राकेश परिवार की राजनीतिक विरासत की असली हकदार हैं। कांग्रेस की ममता राकेश को 44,666,बसपा प्रत्याशी सुबोध राकेश को 39,858, जबकि भाजपा प्रत्याशी सत्यपाल सिंह को 11,998 मत मिले हैं। भगवानपुर विधानसभा की बात की जाए तो 2002 में इस सीट से सुरेंद्र राकेश बतौर निर्दलीय चुनाव लड़कर दूसरे नंबर पर रहे थे। 2007 और 2012 के चुनाव में वह बसपा के टिकट से चुनाव लड़े और जीते। वर्ष 2015 में उनका निधन हो गया। इसके बाद हुए उपचुनाव में उनकी पत्नी ममता राकेश ने कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ा और जीत दर्ज की। इसके बाद से राकेश परिवार में जबरदस्त फूट पड़ गई। स्व. सुरेंद्र राकेश की विरासत को लेकर लड़ाई सड़कों पर आ गई। 2017 के चुनाव में भाजपा ने इस सीट पर ममता राकेश के देवर सुबोध राकेश को चुनाव मैदान में उतारा। लेकिन, मोदी लहर के बावजूद ममता राकेश चुनाव जीतने में कामयाब रहीं। इसके बाद परिवार के बीच छिड़ी जंग बढ़ती रही। 2022 के चुनाव में आचार संहिता लागू होने से ठीक पहले सुबोध राकेश भाजपा छोड़कर बसपा में चले गए। जबकि, ममता ने कांग्रेस के टिकट पर ही चुनाव लड़ा। अब 2022 के विधानसभा चुनाव में भी ममता राकेश ने देवर सुबोध राकेश को करारी शिकस्त दी है। चुनाव जीतने के बाद ममता राकेश ने कहा कि क्षेत्र की जनता ने उन्हें जो प्यार दिया है, वह ताउम्र उसकी कर्जदार रहेंगी। उन्होंने कहा कि उनकी जीत ने साबित कर दिया कि भगवानपुर की जनता दिवंगत कैबिनेट मंत्री सुरेंद्र राकेश को कितना प्यार करती हैं, वह उनके सपने को पूरा करने का काम करेंगी।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

आंदोलनकारियों की शहादत का परिणाम है उत्तराखंड राज्य--डॉ० अंजान

  हरिद्वार। 2 अक्टूबर का दिन पूरे देश में अहिंसा और शांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। और उत्तराखंड तो स्वयं शांति, समन्वय, समरसता एवं अहिंसा का द्योतक ही रहा है। उत्तराखंड राज्य के इतिहास के बारे में डॉक्टर हरिनारायण जोशी ने बताया कि आज के ही दिन 2 अक्टूबर 1994 में शांति और अहिंसा का अर्थ ही बदल गया। क्रुरता, हिंसा और अमानवीयता की सारी सीमाएं पार हो गईं। शांति के साथ राज्य प्राप्ति की मांग मनवाने के लिए उत्तराखंड के विभिन्न भागों से अपनी राजधानी दिल्ली जाते हुए निहत्थे आंदोलनकारी थे बस यही कसूर था उनका कि उत्तराखंड राज्य की मांग।और यूपी सरकार की ऐसी व्यवस्था थी कि जिसने सुरक्षा देनी थी, महिलाओं को ही नहीं, पुरुषों को भी वही भक्षक के रूप में क्रुरतम हिंसा और अमानवियता की पराकाष्ठाओं को हिंसात्मक रूप देने में सम्मिलित हो गये। उस समय सरकार की मानवीयता छलनी हो गई। रामपुर तिराहे के लहराते खेत और वहां की संपूर्ण प्रकृति असहाय महिला और पुरुषों की कराहों के साथ चित्कार कर उठी होगी। लेकिन तथाकथित रक्षकों पर प्रभाव नहीं पड़ा। उनकी संवेदनाएं और मानवतायें भस्म हो गई और वे दैत्य स्वरूप के संवाहक