Skip to main content

देवत्व जगाने हेतु हो नवरात्र साधना: डॉ. पण्ड्या

 सामूहिक अर्ध्यदान से नवसंवत्सर का किया स्वागत


हरिद्वार।हिन्दू नववर्ष संवत् २०७९ का विश्व भर में फैले गायत्री परिवार ने सामूहिक अर्ध्यदान के साथ स्वागत किया। इस अवसर पर शांतिकुंज के श्रीरामपुरम में हजारों पीतवस्त्रधारी गायत्री साधकों ने एकत्रित हो सामूहिक अर्ध्यदान किया। सभी साधक एक-एक पात्र लेकर पहुंचे थे। पश्चात उत्साह एवं उमंग के जयघोष एवं नारे लगाते हुए युगऋषिद्वय के पावन समाधि स्थल पहुंचे। जहाँ साधकों ने विश्व शांति एवं राष्ट्र की उन्नति हेतु सामूहिक प्रार्थना की और दीपांजलि अर्पित की। वहीं देश विदेश के गायत्री साधक, अपने-अपने निकटवर्ती प्रज्ञा संस्थानों, जोन, उपजोन कार्यालयों में एकत्रित हो सामूहिक अर्ध्यदान में भाग लिया।वहीं अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख डॉ.प्रणव पण्ड्या ने नवरात्र साधना में जुटे साधकों को प्रथम दिन वर्चुअल संदेश दिया। श्रीरामचरित मानस में श्रीरामवचनामृत विषय पर संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि इस संवत्सर का नाम राक्षस है। वैसे तो राक्षस शब्द का अर्थ नकारात्मक रूप में लिया जाता है, लेकिन इसका एक सकारात्मक रूप भी है, वह है रक्षा करने वाला। उन्होंने कहा कि पिछले संवत्सवर में कोरोनाकाल के भीषण दुश्वारियों ने हमें एक नई दिशा दी है और सावधानियाँ बढ़ाने के साथ जीवन जीने की एक जीवनशैली भी दे दी है। इसने इम्यूनिटी पावर बढ़ाने और प्रकृति के निकट रहने के लिए प्रेरित किया है। अखिल विश्व गायत्री परिवार प्रमुख श्रद्धेय डॉ. पण्ड्या ने कहा कि इस बार की नवरात्रि में यही प्रयास होना चाहिए व्यक्ति अपने जीवन में देवत्व जगाने हेतु उन तथ्यों की व उन वचनों की गहराई में जाय, जो भगवान श्रीराम के मुख से निकले। उन्होंने कहा कि इन दिनों श्रीरामचरित मानस में श्रीरामवचनामृत को गहराई से जानने का प्रयास किया जाना चाहिए, जिससे अपने प्रभु श्रीराम के वचनों का महत्त्व को समझा जा सके। डॉ. पण्ड्या ने कहा कि युगऋषि पं. श्रीराम शर्मा आचार्य ने जीवन भर एक सादा जीवन उच्च विचार को अपनाया है और लाखों करोड़ों को प्रेरित किया। इससे पूर्व शांतिकुंज के मुख्य सभागार में देश विदेश से आये साधकों को संबोधित करते हुए देवसंस्कृति विश्वविद्यालय के डीन (छात्र कल्याण) संदीप कुमार ने नवरात्र साधना में सफलता के रहस्य एवं अनुष्ठान की रीति नीति पर विस्तार से प्रकाश डाला। साधकों ने सामूहिक साधना के माध्यम से आत्मिक कल्याण एवं विश्व शांति के लिए हवन एवं जप तप कर रहे हैं। इस अवसर पर देश के कोने कोने से आये साधक गण उपस्थित रहे।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

स्वामी नारायण आश्रम में गुरु पूर्णिमा पर्व की तैयारियां शुरू

  हरिद्वार। सिदाश्रम साधक परिवार (निखिल मंत्र विज्ञान) के तत्वावधान में भूपतवाला स्थित स्वामी नारायण आश्रम में 12 एवं 13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा महोत्सव का विशाल आयोजन किया जाएगा। परमहंस स्वामी निखिलेश्वरानंद (डा.नारायण दत्त श्रीमाली) व माता भगवती की दिव्य छत्र-छाया एवं पूज्य गुरुदेव नंदकिशोर श्रीमाली के सानिध्य में आयोजित किए जा रहे दो-दिवसीय महोत्सव की तैयारियों को लेकर मंगलवार को आश्रम में निखिल मंत्र विज्ञान के संयोजक मनोज भारद्वाज की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में गुरू पूर्णिमा महोत्सव की तैयारियों पर चर्चा की गयी। बैठक में कार्यक्रम के मीडिया प्रभारी विजय कुमार झा,गोपाल सैनी, डा.एम.के.तिवारी,शैलेन्द्र शैली,राकेश गुप्ता,नागेन्द्र सिंह,अमर उपाध्याय,लोकेश,बलवान सैनी आदि प्रमुख रूप से शामिल हुए। मनोज भारद्वाज ने बताया कि गुरु पूर्णिमा शिष्य और गुरु के मिलन का समारोह है। गुरु पूर्णिमा के अवसर पर शिष्य अपने पूज्य गुरुदेव के श्रीचरणों में अपना मनोभाव समर्पित करते हैं। उन्होंने बताया कि दो दिवसीय समारोह में देश-विदेश से हजारों की संख्या में आने वाले निखिल शिष्यों का समागम होगा। महोत्सव को