Skip to main content

आपसी मतभेदों के ऊपर उठ कर के हम सबको कार्य करना होगा -योगी आदित्यनाथ

  21वर्ष से चली आ रही समस्या का समाधान बैठकर हो गया-धामी


हरिद्वार। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि एक भारत श्रेष्ठ भारत की जो परिकल्पना को यहां उत्तर प्रदेश उत्तराखंड सरकार ने दशकों के चली आ रही एक समस्या का समाधान करके किया है। जो अलकनंदा होटल को उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग होटल था और लाभांश में चलने वाला होटल था आपसी सहमति से आज अलकनंदा होटल उत्तराखंड सरकार को समर्पित कर रहे हैं और उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग द्वारा उत्तर प्रदेश के निवासियों के लिए भागीरथी के नाम पर पर्यटन आवाज ग्रह उपलब्ध करवा रहे हैं यह आपसी सहमति का उत्कृष्ट उदाहरण हो सकता है हमने आपसी सहमति से यह कार्य किया है दशकों से यह मामला चल रहा था, न्यायालय में चल रहा था बातचीत के रास्ते बंद हो गए थे न्यायालय में जाना पड़ा था परंतु एक समान विचारधारा की सरकार होने के कारण आपसी सहमति से हम लोगों ने इस समस्या का समाधान किया है इसमें अलकनंदा होटल उत्तराखंड सरकार को सौंपेंगे जिसके बदले उत्तर प्रदेश सरकार को लैंड उपलब्ध करवाएगी और उत्तर प्रदेश सरकार उसमें अपने लिए एक पर्यटक आवास गृह बनाएगी जिससे पर्यटक विभाग की गतिविधियों को संचालित किया जाएगा। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के नेतृत्व में उत्तराखंड विभाग विकास की नई ऊंचाइयों को छू रहा है उन्हें ऊंचाइयों में औए यहां के विकास में अलकनंदा होटल भी एक योगदान देगा क्योंकि पर्यटन विभाग की तमाम संभावना उत्तराखंड में है और इस राज्य में जिसने अपनी 20 वर्ष की यात्रा पूरी की है इस यात्रा में विकास के लिए भौतिक संसाधन भी चाहिए उसके लिए आज यह होटल यहां उपलब्ध कराया जा रहा है, मैं धन्यवाद दूंगा पुष्कर सिंह धामी को जिन्होंने बहुत सहजता के साथ समस्या का समाधान किया और सकारात्मक रुख अपनाया। योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह कार्य त्रिवेंद्र सिंह रावत पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा प्रारंभ किया गया था और यह प्रक्रिया चल रही थी बातचीत अधिकारी के स्तर पर चल रही थी कि सेक्रेटरी स्तर की बैठक भी हो चुकी थी लेकिन बहुत सारी ऐसी चीजें होती हैं जो नौकरशाही के स्तर पर नहीं हो पाती है बल्कि उनके राजनीतिक समाधान निकालने होते हैं और हम लोग ने दोनों ने नवंबर 2021 में इस समस्या का बैठकर आपसी सहमति से समाधान निकाला,यह सौंपते हुए मुझे हार्दिक प्रसन्नता हो रही है आनंद हो रहा है एक समस्या का समाधान हुआ है। ऐसे ही अन्य समस्याओं का भी समाधान भी हम इसी प्रकार से करेंगे, हम सब की संभावनाएं है एक भारत श्रेष्ठ भारत की होनी चाहिए कि हम सब मिलकर के एक भारत से सपने को कैसे साकार कर सकते हैं उसके लिए आवश्यक है कि आपसी कुछ मतभेदों के ऊपर उठ कर के हम सबको कार्य करना होगा और जब हम कार्य करने की बात करते हैं तो हमें राजनीतिक संकीर्णता से ऊपर उठाना ही होगा यह उन सभी राज्यों के लिए उदाहरण बन सकता है जहां पर आपसी सहमति से कोई विवाद का समाधान नहीं हो पाता है, कि उत्तर प्रदेश उत्तराखंड में कैसे किया। अलकनंदा होटल का हल हो चुका है इससे पहले रोडवेज की समस्या वन निगम की समस्या आवास विकास की समस्या नॉर्मली ही जब हम 21 में बैठे थे तब हम लोगों ने इन सभी समस्याओं का समाधान किया था और आने वाले समय में जो भी बाकी बची हुई चीजें हैं उन पर भी समयबद्ध तरीके से सैद्धांतिक सहमति बन चुकी है व्यवहारिक धरातल पर उसको उतारने की कार्यवाही भी दोनों लोग मिलकर करेंगे। अब इस होटल को उत्तराखंड सरकार स्वयं संचालित करेगी ,एक प्रॉफिट मेकिंग एक ऑर्गेनाइजेशन है यह अच्छी संस्था है अच्छा होटल है और हरिद्वार में उत्तराखंड में चार धाम की यात्रा भी प्रारंभ हो रही है, 2 धाम खुल चुके हैं कल और परसों दो और धाम खुल जाएंगे, देश और दुनिया के लाखों श्रद्धालु धामों की यात्रा के लिए यहां आएंगे तो एक अच्छी सुविधा देने में यह होटल बड़ी मदद करेगा, वैसे तो वर्ष भर यहां पर श्रद्धालु आते रहते हैं उनको उनको लेकर भी बहुत सारी संभावनाएं हैं उनको उत्तराखंड का पर्यटन विभाग ही आगे बढ़ाएगा उत्तराखंड के विकास को भी तेजी से आगे बढ़ाएंगे यहां पर नौजवानों को रोजगार की संभावनाएं को भी आगे बढ़ाने के लिए सहयोग करेगा। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का कहना है कि आज भागीरथी आवास गृह के लोकार्पण हो गया है और उत्तराखंड को बंटवारे के रूप में अलग अलकनंदा होटल मिल गया है। लंबे समय से 21 वर्ष पूरे हुए हैं उत्तराखंड को बने हुए और 22 में वर्ष में प्रवेश किया है लगभग 21 वर्ष पूरे होने पर भी यह समस्या बनी हुई थी जिसका समाधान नहीं हो पा रहा था पिछले 5 वर्षों में लगातार प्रयास होते रहे और नवंबर माह में सभी परिसंपत्तियों के मामले में 95ः मामले का समाधान हो गया है शेष बाकी 5ः का भी समाधान जल्दी ही हो जाएगा, सिंचाई विभाग के कई हेड वर्क्स उत्तर प्रदेश के पास है और उत्तर प्रदेश के पास कई बैराज भी हैं और सिंचाई विभाग के आवास आदि को लेकर जल्द ही निर्णय हो जाएगा। कहा कि आज आपने देखा की आपके समझ दो सरकारें एक होने से डबल इंजन ट्रिपल इंजन, पहले डबल इंजन कहते थे पर अब ट्रिपल इंजन की सरकारें हैं और पिछले 21 सालों से जूस मामले का समाधान नहीं हो पा रहा था जो उलझन थी उसके सुलझाने का कार्य किया है मैं योगी आदित्यनाथ जी का हृदय की गहराइयों से स्वागत करता हूं।

Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

आंदोलनकारियों की शहादत का परिणाम है उत्तराखंड राज्य--डॉ० अंजान

  हरिद्वार। 2 अक्टूबर का दिन पूरे देश में अहिंसा और शांति दिवस के रूप में मनाया जाता है। और उत्तराखंड तो स्वयं शांति, समन्वय, समरसता एवं अहिंसा का द्योतक ही रहा है। उत्तराखंड राज्य के इतिहास के बारे में डॉक्टर हरिनारायण जोशी ने बताया कि आज के ही दिन 2 अक्टूबर 1994 में शांति और अहिंसा का अर्थ ही बदल गया। क्रुरता, हिंसा और अमानवीयता की सारी सीमाएं पार हो गईं। शांति के साथ राज्य प्राप्ति की मांग मनवाने के लिए उत्तराखंड के विभिन्न भागों से अपनी राजधानी दिल्ली जाते हुए निहत्थे आंदोलनकारी थे बस यही कसूर था उनका कि उत्तराखंड राज्य की मांग।और यूपी सरकार की ऐसी व्यवस्था थी कि जिसने सुरक्षा देनी थी, महिलाओं को ही नहीं, पुरुषों को भी वही भक्षक के रूप में क्रुरतम हिंसा और अमानवियता की पराकाष्ठाओं को हिंसात्मक रूप देने में सम्मिलित हो गये। उस समय सरकार की मानवीयता छलनी हो गई। रामपुर तिराहे के लहराते खेत और वहां की संपूर्ण प्रकृति असहाय महिला और पुरुषों की कराहों के साथ चित्कार कर उठी होगी। लेकिन तथाकथित रक्षकों पर प्रभाव नहीं पड़ा। उनकी संवेदनाएं और मानवतायें भस्म हो गई और वे दैत्य स्वरूप के संवाहक