Skip to main content

मनोज गोरकेला को कनार्टक विवि ने प्रदान की एलएलडी की मानद उपाधि


 हरिद्वार। उत्तराखंड के दुर्गम सीमांत आदिवासी क्षेत्र के रहने वाले मनोज गोरकेला को उनके राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मिली उपलब्धियां को ध्यान में रखकर कर्नाटक विश्वविद्यालय, धारवाड़ के द्वारा एलएलडी की मानद डिग्री दी जा रही है। गोरकेला जी भारत के उन चुनिन्दा लोगो के अलावा उत्तराखंड के पहले व्यक्ति है, जिन्हें कर्नाटक विश्वविद्यालय, धारवाड़ यह सम्मान दे रहा है। भारत में ही नहीं पुरे विश्व में पीएचडी अलग अलग विषयों में लाखों लोग करते है, किन्तु मानद उपाधि भारत में बहुत कम लोगो को मिलती है खासतौर से कानून(विधि) में एलएलडी की डिग्री तो उन लोगो को मिलती है जिनके पास कानून की विशेषज्ञता हो, और यह डिग्री विश्वविद्यालय के अधिकारिक परिषद् (एक्यूटिव काउंसिल) के सहमति से मिलती है, और काउन्सिल में भारत के उस विश्वविद्यालय के अलग अलग विषयों के विद्वान प्रोफेसर लोग होते है। बड़ा गर्व महसूस हो रहा है की उत्तराखंड के एक दुर्गम क्षेत्र में पैदा हुए मनोज गोरकेला को उनके द्वारा किए गए महान कार्यों के आधार पर यह उपाधि दीं जा रही है। आपके द्वारा भारत ही नही विश्व के कई विश्वविद्यालय में अंतर्राष्ट्रीय विधि भारतीय संविधान के अलावा कई विषयों पर लेक्चर दिए गए है,जिनमे विदेशों में कनाडा, यूनाइटेड किंगडम,यूनाइटेड स्टेट्स एवं भारत के कई विश्वविद्यालय में पीएचडी व एलएलएम के विध्यार्थी भी शामिल है। आपने इसके अलावा भारत के सबसे बड़े मेडिकल कॉलेज (एम्स ) में डाक्टरों और प्रोफेसरों को भी लेक्चर दिया है। सभी बड़े संस्थानों में भारत के संविधान एवं कानून की जानकारी आप के द्वारा दी गई है। इस डिग्री के मिलने का कारण यह भी है कि जहाँ भी आपने लेक्चर दिया है विश्वविद्यालय एवं संस्थान में वहाँ से आपके द्वारा सिर्फ एक रुपये का चेक लिया गया है। आप उप महाधिवक्ता सुप्रीम कोर्ट में होने के साथ साथ तीन राज्यों का सर्वोच न्यायालय में प्रतिनिधित्व कर रहे है। आपके द्वारा सुप्रीम कोर्ट में जिन केसो में अपना पक्ष रखा गया, वो केस नजीर बन चुके है जिनमे अयोध्या में राम मंदिर, क्रिप्टो करंसी,भूमि अधिग्रहण, निजी विधालयों में गरीब बच्चों का दाखिला, मिड डे मील, आधार कार्ड, नये न्यायालय व जजों की नियुक्ति, आदि कई संविधानिक मामले है। आपके द्वारा सुप्रीम कोर्ट आफ इंडिया में संविधानिक पीठ के सम्मुख भारत के कई लाखों दृ करोड़ों आदिवासी लोगों का पक्ष रखा गया है और अधिकतर जो वास्तव में गरीब लोग होते है उनके केस मुफ्त में लड़ें हैं, आप मध्यप्रदेश में स्थित विश्वविद्यालय के विजिटिंग प्रोफेसर भी है। आपने अब तक का अपना जीवन भारत के बहुत गरीब लोगों के उत्थान के लिए समर्पित किया है। विश्वविद्यालय द्वारा आपकी और भी कई उपलब्धियां देखी गयीं हैं जिसे लिखने की कोशिश करते हैं तो अत्यधिक समय लगेगा भारत के विकाश के लिए आपके द्वारा विश्व के कई देशों में जाकर वहां के कानून का गहन अध्ययन किया गया यहाँ तक की अन्तर्राष्ट्रीय न्यायालय व यू॰एन॰ओ॰ में जाकर वहां की कार्य प्रणाली का गहन अध्ययन किया गया है ताकि वहाँ के उचित ज्ञान को भारत के विद्यार्थियों को लेक्चर के माध्यम से बता सके। आप भारत के पहले व्यक्ति है जिनके द्वारा मात्र भूमि की सेवा करने के उद्देश्य से हर महीना वेतन रिटेनरशिप फीस, उत्तराखंड सरकार से एक रुपया लिया गया है। भारत में इस तरह की उपलब्धियां बहुत कम लोगों के पास होती हैं और इतनी सारी उपलब्धियां होने के बावजूद भी आप एक साधारण से व्यक्ति की तरह जीवन यापन करते हैं कोई भी डिग्री किस विश्वविध्यालय से मिलती है यह बहुत महत्वपूर्ण है और गोरकेला जी को एलएलडी की मानद डिग्री कर्नाटक राज्य के ही नहीं भारत के एक नामी विश्वविद्यालय (कर्नाटक विश्वविद्यालय, धारवाड़) से मिल रही है, यह विश्वविद्यालय आजादी के पहले बनाया गया था।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए

स्वामी नारायण आश्रम में गुरु पूर्णिमा पर्व की तैयारियां शुरू

  हरिद्वार। सिदाश्रम साधक परिवार (निखिल मंत्र विज्ञान) के तत्वावधान में भूपतवाला स्थित स्वामी नारायण आश्रम में 12 एवं 13 जुलाई को गुरु पूर्णिमा महोत्सव का विशाल आयोजन किया जाएगा। परमहंस स्वामी निखिलेश्वरानंद (डा.नारायण दत्त श्रीमाली) व माता भगवती की दिव्य छत्र-छाया एवं पूज्य गुरुदेव नंदकिशोर श्रीमाली के सानिध्य में आयोजित किए जा रहे दो-दिवसीय महोत्सव की तैयारियों को लेकर मंगलवार को आश्रम में निखिल मंत्र विज्ञान के संयोजक मनोज भारद्वाज की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में गुरू पूर्णिमा महोत्सव की तैयारियों पर चर्चा की गयी। बैठक में कार्यक्रम के मीडिया प्रभारी विजय कुमार झा,गोपाल सैनी, डा.एम.के.तिवारी,शैलेन्द्र शैली,राकेश गुप्ता,नागेन्द्र सिंह,अमर उपाध्याय,लोकेश,बलवान सैनी आदि प्रमुख रूप से शामिल हुए। मनोज भारद्वाज ने बताया कि गुरु पूर्णिमा शिष्य और गुरु के मिलन का समारोह है। गुरु पूर्णिमा के अवसर पर शिष्य अपने पूज्य गुरुदेव के श्रीचरणों में अपना मनोभाव समर्पित करते हैं। उन्होंने बताया कि दो दिवसीय समारोह में देश-विदेश से हजारों की संख्या में आने वाले निखिल शिष्यों का समागम होगा। महोत्सव को