Skip to main content

उत्तराखण्ड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में डॉ0 ध्यानी का कार्यकाल रहेगा स्वर्णिम अक्षरों में

 हरिद्वार।श्रीदेव सुमन उत्तराखण्ड विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ0 पी0 पी0 ध्यानी,जो पिछले 1 साल 4 माह व 15 दिनों से वीर माधो सिंह भण्डारी उत्तराखण्ड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, देहरादून के कुलपति का भी अतिरिक्त प्रभार सम्भाले हुए थे ने उत्तराखण्ड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के नव नियुक्त नियमित कुलपति प्रोफेसर ओंकार सिंह को विश्वविद्यालय का कार्यभार हस्तान्तरित कर उन्हें विश्वविद्यालय की उपलब्धियो से अवगत कराते हुए विश्वविद्यालय को और ऊंचाइयों पर ले जाने हेतु अपनी हार्दिक शुभकामनाएं दी। कार्यभार हस्तान्तरण के अवसर पर डॉ0 ध्यानी ने कहा कि उन्हें नियमित व सुयोग्य व्यक्ति को कुलपति का कार्यभार देने पर आत्मीय खुशी हुई केन्द्र सरकार में राष्ट्रीय निदेशक के रूप में और राज्य में स्थापित 3 विश्वविद्यालयों के कुलपति के रूप में वृहद अनुभव रखने वाले कुलपति डॉ0 ध्यानी का स्पष्ट मानना है कि  एडोक्रेसी/तदर्थ/अतिरिक्तप्रभार/कामचलाऊव्यवस्था के तहत राज्य में कुलपतियो,कुलसचिवों, परीक्षा नियंत्रको एवं वित्त अधिकारियों की नियुक्तियां विश्वविद्यालयों के हित में नही हैं। तदर्थ  व काम चलाऊ व्यवस्थाओं से विश्वविद्यालयों को किसी भी हालत मे उत्कृष्ट नहीं बनाया जा सकता है। डॉ0 ध्यानी ने बताया कि उन्होंने 18 जून 2022 को ‘‘जनरल विपिन रावत डिफेंस लैब’’ के लोकार्पण के समय यह बात सार्वजनिक कार्यक्रम में कही थी और विश्वविद्यालय में नियमित कुलपति की नियुक्ति करने की बात कही थी जो कि सोशल मीडिया व समाचार पत्रों में भी प्रकाशित हुई थी। डॉ0 ध्यानी ने कहा कि आज उत्तराखण्ड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में नियमित कुलपति प्रो0ओंकार सिंह को कार्यभार देकर उन्हें अत्यन्त प्रसन्नता हुई। उन्होंने बताया कि प्रो0ओंकार सिंह देश के एक प्रतिष्ठित मैकेनिकल इंजीनियर हैं,जिन्हें उत्तर प्रदेश के  2 विश्वविद्यालयो में कुलपति के रूप में कार्य करने का वृहद अनुभव है। उनके ज्ञान,बुद्धिमत्ता और अनुभव से उत्तराखण्ड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय उन्नति के शिखर पर जरूर पहुंचेगा उन्हें ऐसा विश्वास है यह भी बता दे कि उत्तराखण्ड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय पूर्व मे कई कारणों के कारण हमेशा विवादों और चर्चाओं में रहता था जिससे छात्र-छात्राओं, कर्मचारियों इत्यादि द्वारा उच्च न्यायालय नैनीताल व सर्वाेच्च न्यायालय नई दिल्ली में,विश्वविद्यालय के खिलाफ, कई वाद दाखिल किए गए थे। वर्तमान में 6 वाद उच्चतम न्यायालय में तथा 157 वाद  उच्च न्यायालय नैनीताल में लम्बित हैं। इन लम्बित न्यायिक प्रकरणों का प्रभावी ढंग से पैरवी करना विश्वविद्यालय के समक्ष आज एक बहुत बडी चुनौती है। लेकिन जब से डॉ0 ध्यानी ने कुलपति का कार्यभार सम्भाला था, उनकी बेहद ईमानदारी,सख्त प्रशासनिक छवि और कायदे कानून के अनुसार कार्य करने की जबर्दस्त क्षमता के कारण उनके कार्यकाल में विश्वविद्यालय का कोई भी निर्णय विवादों में नहीं रहा, बल्कि विश्वविद्यालय की मान्यता प्रणाली और प्रशासनिक व वित्तीय छवि में दिनोंदिन गुणात्मक सुधार हुआ राज्य में पहली बार ऑनलाइन लाईव परीक्षाओं का आयोजन हुआ,वर्ष 2021-22 से शैक्षणिक सत्र नियमित हुआ,डिजीलॉकरी- नेशनल एकैडमिक डिपोजटी छात्र-छात्राओं की डिग्रियां संरक्षित हुई,विश्वविद्यालय में 5 साल से रूकी पीएच0डी0 प्रक्रिया शुरू हुई, विश्वविद्यालय में 13 साल से रूकी पदोन्नति हुई और 5 साल 5 माह बाद दीक्षान्त समारोह आयोजित हुआ और विश्वविद्यालय द्वारा 3 महत्वपूर्ण समझौते आर्मी  डिजायन ब्यूरो आर्ट पार्क और एनवीआर न्यू सिस्टम्स प्राइवेट लि0 हुए। इन महत्वपूर्ण उपलब्धियों से विश्वविद्यालय की छवि में अत्यन्त निखार हुआ विश्वविद्यालय उत्कृष्ट विश्वविद्यालय की ओर बनने में अग्रसर हुआ। कार्यभार हस्तान्तरण करने के बाद विश्वविद्यालय द्वारा डॉ0 ध्यानी के सम्मान में विदाई समारोह व नव आगन्तुक प्रो0ओंकार सिंह   के सम्मान मे स्वागत समारोह आयोजित किया गया। विश्वविद्यालय के सभी अधिकारियों, कर्म चारियों व शिक्षकों ने कुलपति डा0 पी0 पी0 ध्यानी को भावभीनी विदाई दी और कहा कि डॉ0 ध्यानी के कुशल नेतृत्व में वे कार्य करने से अति प्रोत्साहित और गौरवान्वित हुए। उन्होंने एक स्वर से कहा कि डॉ0 ध्यानी का कार्यकाल विश्वविद्यालय में ‘‘स्वर्णिम कार्यकाल’’ के रूप में  हमेशा याद किया जाएगा। विश्वविद्यालय के अधिकारियों, कर्मचारियों व शिक्षकों ने प्रो0ओंकार सिंह का विश्वविद्यालय का कुलपति बनने पर स्वागत कर उन्हें विश्वविद्यालय को उत्कृष्ट बनाने हेतु अपना पूर्ण सहयोग देने का भरोसा दिलाया। इस दौरान विश्वविद्यालय के कुलसचिव आर0पी0गुप्ता,वित्त नियंत्रक बिक्रम सिंह जंतवाल,परीक्षा नियंत्रक पी0के0 अरोड़ा, वित्त अधिकारी सुरेशचन्द्र आर्य,शोध समन्वयक डॉ0 मनोज पाण्डा सहित विश्वविद्यालय कर्मी व शिक्षक उपस्थित रहे।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

धूमधाम से गंगा जी मे प्रवाहित होगा पवित्र जोत,होगा दुग्धाभिषेक -डॉ0नागपाल

 112वॉ मुलतान जोत महोत्सव 7अगस्त को,लाखों श्रद्वालु बनेंगे साक्षी हरिद्वार। समाज मे आपसी भाईचारे और शांति को बढ़ावा देने के संकल्प के साथ शुरू हुई जोत महोसत्व का सफर पराधीन भारत से शुरू होकर स्वाधीन भारत मे भी जारी है। पाकिस्तान के मुल्तान प्रान्त से 1911 में भक्त रूपचंद जी द्वारा पैदल आकर गंगा में जोत प्रवाहित करने का सिलसिला शुरू हुआ जो आज भी अनवरत 112वे वर्ष में भी जारी है। इस सांस्कृतिक और सामाजिक परम्परा को जारी रखने का कार्य अखिल भारतीय मुल्तान युवा संगठन बखूबी आगे बढ़ा रहे है। संगठन अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नागपाल व अन्य पदाधिकारियो ने रविवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से  मुल्तान जोत महोत्सव के संबंध मे वार्ता की। वार्ता के दौरान डॉ नागपाल ने बताया कि 7 अगस्त को धूमधाम से  मुलतान जोट महोत्सव सम्पन्न होगा जिसके हजारों श्रद्धालु गवाह बनेंगे। उन्होंने बताया कि आजादी के 75वी वर्षगांठ पर जोट महोत्सव को तिरंगा यात्रा के साथ जोड़ने का प्रयास होगा। श्रद्धालुओं द्वारा जगह जगह सुन्दर कांड का पाठ, हवन व प्रसाद वितरण होगा। गंगा जी का दुग्धाभिषेक, पूजन के साथ विशेष ज्योति गंगा जी को अर्पित करेगे।

बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दलों ने 127 कांवडियों,श्रद्धालुओं को गंगा में डूबने से बचाया

  हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशन, अपर जिलाधिकारी पी0एल0शाह के मुख्य संयोजन एवं नोडल अधिकारी डा0 नरेश चौधरी के संयोजन में कांवड़ मेले के दौरान बी0ई0जी0 आर्मी के तैराक दल अपनी मोटरबोटों एवं सभी संसाधनों के साथ कांवडियों की सुरक्षा के लिये गंगा के विभिन्न घाटों पर तैनात होकर मुस्तैदी से हर समय कांवड़ियों को डूबने से बचा रहे हैं। बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा कांवड़ मेला अवधि के दौरान 127 शिवभक्त कांवडियों,श्रद्धालुओं को डूबने से बचाया गया। 17 वर्षीय अरूण निवासी जालंधर, 24 वर्षीय मोनू निवासी बागपत, 18 वर्षीय अमन निवासी नई दिल्ली, 20 वर्षीय रमन गिरी निवासी कुरूक्षेत्र, 22 वर्षीय श्याम निवासी सराहनपुर, 23 वर्षीय संतोष निवासी मुरादाबाद, 18 वर्षीय संदीप निवासी रोहतक आदि को विभिन्न घाटों से बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा गंगा में डूबने से बचाया गया तथा साथ ही साथ प्राथमिक उपचार देकर उन सभी कांवडियों को चेतावनी दी गयी कि गंगा में सुरक्षित स्थानों में ही स्नान करें। कांवड़ मेला अवधि के दौरान बी0ई0जी0आर्मी तैराक दल एवं रेड क्रास स्वयंसेवकों द्वारा गंगा के पुलों एवं घाटों पर माइकिं