Skip to main content

प्रधांनमत्री ने भारतीय शिक्षा बोर्ड का गठन कर दिया है- स्वामी रामदेव

गौरवपूर्ण अतीत स्मरण कराने में स्वामी रामदेव का विराट योगदानः आचार्य बालकृष्ण 


 हरिद्वार। पतंजलि अनुसंधान संस्थान एवं पतंजलि विश्वविद्यालय के संयुक्त प्रयास से चल रहे अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन के तृतीय दिन आध्ुनिक चिकित्सा विज्ञान के विद्वानों एवं वैज्ञानिकों ने प्रतिभागियों से ‘स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में चुनौतियों पर मंथनः आधुनिक औषधियों और आयुर्वेद पर एकीकृत दृष्टिकोण’ विषय पर अपने महत्वपूर्ण एवं शोधपरक अनुभव साझा किया। अन्तर्राष्ट्रीय सम्मेलन के तीसरेे दिन प्राचीन एवं आध्ुनिक चिकित्सा ज्ञान-विज्ञान पर वैज्ञानिकों ने स्वामी रामदेव एवं आचार्य बालकृष्ण के मार्गदर्शन में गहन विचार मन्थन किया। स्वागत-गीत वैदिक मन्त्रोच्चार के साथ ज्ञान प्रवाह की शुरुआत की गई। पतंजलि विश्वविद्यालय के कुलाधिपति स्वामी रामदेव ने एक बडी धोषणा करते हुये कहा की जब भारत आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है तब देश के प्रधांनमत्री नरेन्द्र मोदी ने एक बहुत बडा ऐतिहासिक कार्य किया है पं्रधानमत्री ने आज भारतीय शिक्षा बोर्ड का गठन कर दिया है। 1835 मे जो मैकाले पाप करके गया था उसको साफ करने का कार्य पंतजलि भारतीय शिक्षा बोर्ड के माघ्यम से करने जा रहा है। अब भारत मे भारत के बच्चो का मानस भारतीयता के अनुसार तैयार किया जायेगा। इस पुण्य कार्य के लिये प्रधानमत्री नरेन्द्र मोदी,गृह मत्री अमित शाह के साथ ही शिक्षा मंत्री धमेन्द्र प्रधान का व राज्य सरकार के शिक्षा मंत्री डॉ0 धन सिह रावत का अभार व्यक्त किया। इसके साथ स्वामी रामदेव ने उपस्थित वैज्ञानिकों एवं प्रतिभागियों का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि आयुर्वेद सबसे प्राचीन विज्ञान है। ऋषियों द्वारा प्रतिपादित इस ज्ञान की उपेक्षा करना तथा इसे कमतर आंकना अज्ञानता है। पतंजलि अनुसंधान संस्थान ने अपने साक्ष्य-आधरित अनुसंधान को दुनिया के प्रमुख शोध् पत्रिका में प्रकाशित करवाकर इसे दूर करने का प्रयास किया है। उन्होंने आयुर्वेद को एंटी-एजिंग,रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने तथा शुद्विकरण हेतु सर्वाधिक उपयोगी पद्वति बताया। सम्मेलन में उपस्थित चिकित्सकों को सम्बोधित करते हुए उन्होेंने आधुनिक चिकित्सा वैज्ञानिकों के प्रयास की सराहना की एवं चिकित्सकों को देवदूत की तरह बताया। उन्होंने जीवन में अविचलित रहने के लिए हमेशा अपनी संस्कृति के साथ जुडे रहने की सलाह दी। एक महत्वूपर्ण शोध् पत्रिका योगायु के प्रथम अंक का विमोचन करते हुए उन्होंने वैज्ञानिकों के अखण्ड-प्रचण्ड पुरुषार्थ से तैयार किये गये विश्व-भेषज संहिता के 51 खण्ड सहित कुल 80 अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के ग्रन्थों की संक्षिप्त जानकारी प्रदान की।  कार्यक्रम के मुख्य अतिथि आयुष मंत्रालय के सचिव वैद्य राजेश कोटेचा ने आचार्य बालकृष्ण को जीवन के 50 बसंत पूर्ण करने पर हार्दिक बधाई दी एवं पतंजलि में विराट स्तर पर चल रहे अनुसंधान कार्यों की सराहना की। उपस्थित प्रतिभागियों को उन्होंने आयुष मंत्रालय एवं पतंजलि योगपीठ द्वारा यहाँ एक सेन्टर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना के बारे में भी जानकारी दी। एक शोध् निष्कर्ष की जानकारी देते हुए बताया कि भारत में कोरोना काल के दौरान 89 प्रतिशत से ज्यादा लोगों ने अपनी स्वास्थ्य रक्षा के लिए आयुष की विभिन्न विधाओं का प्रयोग किया। एम्स भोपाल के अध्यक्ष प्रो. वाई. के. गुप्ता ने हेल्थ केयर की चुनौतियों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि पतंजलि में चल रहे अनुसंधान पूरी दुनिया का मार्गदर्शन करेंगे। एम्स ऋषिकेश के निदेशक प्रो.मीनू सिंह ने बताया कि साक्ष्य-आधरित चिकित्सा के क्षेत्र में पतंजलि ने एक बड़ा मुकाम हासिल किया है। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ कैंसर प्रिवेन्शन एण्ड रिसर्च,आई.सी.एम.आर. के निदेशक प्रो. शालिनी सिंह ने कैंसर नियंत्रण हेतु समग्र उपागम की चर्चा करते हुए बताया कि कैंसर के उत्पन्न होने में नौ प्रतिशत अहितकारी भोजन का योगदान होता है। इसी श्रृख्ंाला में एम्स दिल्ली के प्रो.के.के.दीपक ने योग व ध्यान का मस्तिष्कीय तरंगों पर पड़ने वाले प्रभावों को साझा किया। अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के हृदय रोग विशेषज्ञ प्रो. शेखर कश्यप ने कुछ केस स्टडी के आधार पर अपने अनुभव साझा किये एवं गीता का उदाहरण देते हुए युक्त आहार-विहार लेने की सलाह दी। ड्रग डिस्कवरी डिविजन, पतंजलि अनुसंधान संस्थान के उपाध्यक्ष एवं वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ.अनुराग वार्ष्णेय ने कोविड-19 से सम्बन्धित अनुसंधान पर विस्तार से प्रकाश डाला। हर्बल रिसर्च डिविजन के प्रमुख डॉ. वेदप्रिया ने प्रतिभागियों को बताया कि विश्व भेषज संहिता का निर्माण आचार्य बालकृष्ण के निर्देशन में सात सौ वैज्ञानिकों के समूह द्वारा किया गया एक बड़ा प्रयास है,जिसकी पूरी दुनिया ऋणी रहेगी। इस संहिता में 50 हजार मेडिशनल प्लान्ट का वर्णन किया गया है। पतंजलि अनुसंधान के डॉ.ऋषभदेव ने लिवर सम्बन्धित बीमारियों के निदान में पतंजलि द्वारा निर्मित दिव्य सर्वकल्प क्वाथ एवं लिवोग्रिट को बहुत उपयोगी बताया। कार्यक्रम की शोभा तब दोगुनी हो गयी जब उत्तराखंड के उच्च शिक्षा मंत्री ने पहुंच कर स्वामी रामदेव व आचार्य बाल कृष्ण को भारतीय शिक्षा बोर्ड के गठन होने की शुभकामनाए दी। इस सम्मेलन में प्रत्यक्ष एवं परोक्ष रूप से लगभग 50 से अधिक उच्च शिक्षण संस्थानों से हजारों प्रतिभागी जुड़े रहे। इस अवसर पर डॉ.महावीर अग्रवाल,डॉ.साध्वी देवप्रिया,डॉ.के.एन.एस.यादव,डॉ.वी.के.कटियार,स्वामी परमार्थदेव एवं डॉ.निर्विकार सहित संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिकों एवं अन्य चिकित्सा संस्थानों के प्रमुख विद्वानों की भी गरिमामयी उपस्थिति रही।


Comments

Popular posts from this blog

ऋषिकेश मेयर सहित तीन नेताओं को पार्टी ने थमाया नोटिस

 हरिद्वार। भाजपा की ओर से ऋषिकेश मेयर,मण्डल अध्यक्ष सहित तीन नेताओं को अनुशासनहीनता के आरोप में नोटिस जारी किया है। एक सप्ताह के अन्दर नोटिस का जबाव मांगा गया है। भारतीय जनता पार्टी ने अनुशासनहीनता के आरोप में ऋषिकेश की मेयर श्रीमती अनिता ममगाईं, ऋषिकेश के मंडल अध्यक्ष दिनेश सती और पौड़ी के पूर्व जिलाध्यक्ष मुकेश रावत को कारण बताओ नोटिस जारी किया है। भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी मनबीर सिंह चैहान के अनुसार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक के निर्देश पर प्रदेश महामंत्री कुलदीप कुमार ने नोटिस जारी किए हैं। नोटिस में सभी को एक सप्ताह के भीतर अपना स्पष्टीकरण लिखित रूप से प्रदेश अध्यक्ष अथवा महामंत्री को देने को कहा गया है।

धूमधाम से गंगा जी मे प्रवाहित होगा पवित्र जोत,होगा दुग्धाभिषेक -डॉ0नागपाल

 112वॉ मुलतान जोत महोत्सव 7अगस्त को,लाखों श्रद्वालु बनेंगे साक्षी हरिद्वार। समाज मे आपसी भाईचारे और शांति को बढ़ावा देने के संकल्प के साथ शुरू हुई जोत महोसत्व का सफर पराधीन भारत से शुरू होकर स्वाधीन भारत मे भी जारी है। पाकिस्तान के मुल्तान प्रान्त से 1911 में भक्त रूपचंद जी द्वारा पैदल आकर गंगा में जोत प्रवाहित करने का सिलसिला शुरू हुआ जो आज भी अनवरत 112वे वर्ष में भी जारी है। इस सांस्कृतिक और सामाजिक परम्परा को जारी रखने का कार्य अखिल भारतीय मुल्तान युवा संगठन बखूबी आगे बढ़ा रहे है। संगठन अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नागपाल व अन्य पदाधिकारियो ने रविवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से  मुल्तान जोत महोत्सव के संबंध मे वार्ता की। वार्ता के दौरान डॉ नागपाल ने बताया कि 7 अगस्त को धूमधाम से  मुलतान जोट महोत्सव सम्पन्न होगा जिसके हजारों श्रद्धालु गवाह बनेंगे। उन्होंने बताया कि आजादी के 75वी वर्षगांठ पर जोट महोत्सव को तिरंगा यात्रा के साथ जोड़ने का प्रयास होगा। श्रद्धालुओं द्वारा जगह जगह सुन्दर कांड का पाठ, हवन व प्रसाद वितरण होगा। गंगा जी का दुग्धाभिषेक, पूजन के साथ विशेष ज्योति गंगा जी को अर्पित करेगे।

बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दलों ने 127 कांवडियों,श्रद्धालुओं को गंगा में डूबने से बचाया

  हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशन, अपर जिलाधिकारी पी0एल0शाह के मुख्य संयोजन एवं नोडल अधिकारी डा0 नरेश चौधरी के संयोजन में कांवड़ मेले के दौरान बी0ई0जी0 आर्मी के तैराक दल अपनी मोटरबोटों एवं सभी संसाधनों के साथ कांवडियों की सुरक्षा के लिये गंगा के विभिन्न घाटों पर तैनात होकर मुस्तैदी से हर समय कांवड़ियों को डूबने से बचा रहे हैं। बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा कांवड़ मेला अवधि के दौरान 127 शिवभक्त कांवडियों,श्रद्धालुओं को डूबने से बचाया गया। 17 वर्षीय अरूण निवासी जालंधर, 24 वर्षीय मोनू निवासी बागपत, 18 वर्षीय अमन निवासी नई दिल्ली, 20 वर्षीय रमन गिरी निवासी कुरूक्षेत्र, 22 वर्षीय श्याम निवासी सराहनपुर, 23 वर्षीय संतोष निवासी मुरादाबाद, 18 वर्षीय संदीप निवासी रोहतक आदि को विभिन्न घाटों से बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा गंगा में डूबने से बचाया गया तथा साथ ही साथ प्राथमिक उपचार देकर उन सभी कांवडियों को चेतावनी दी गयी कि गंगा में सुरक्षित स्थानों में ही स्नान करें। कांवड़ मेला अवधि के दौरान बी0ई0जी0आर्मी तैराक दल एवं रेड क्रास स्वयंसेवकों द्वारा गंगा के पुलों एवं घाटों पर माइकिं