Skip to main content

भैरव जयंती के उपलक्ष्य में जूना अखाड़े के संतों ने निकाली शोभायात्रा

 


हरिद्वार। भगवान शिव के अवतार काल भैरव के जन्मोत्सव के पावन अवसर पर श्री पंच दशनाम जूना अखाड़े में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है । कार्यक्रमों की इसी श्रृंखला में मंगलवार को जूना अखाड़े द्वारा भव्य शोभायात्रा निकाली गई। जूना अखाड़े के अंतरराष्ट्रीय संरक्षक तथा अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री श्री महंत हरि गिरी महाराज व अखाड़े के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष श्री महंत प्रेम गिरी महाराज के निर्देशन में नागा सन्यासियों साधु-संतों व श्रद्धालु भक्तों ने नगर के प्रमुख बाजारों में भगवान आनंद भैरव अर्थात बटुक भैरव की शोभायात्रा निकाली। जूना अखाड़े स्थित भगवान आनंद भैरव के पौराणिक मंदिर से आनंद भैरव की पूजा अर्चना के पश्चात रथ में सवार शोभायात्रा प्रारंभ की गई। बैंड बाजे ढोल नगाड़ों के साथ-साथ श्री परशुराम अखाड़े के वीरों द्वारा तलवारबाजी, गदा,फरसा तथा अन्य अस्त्र शस्त्रों के प्रदर्शन के साथ बाल्मीकि चौक,दत्तात्रय चौक, हर की पैड़ी,मोती बाजार,बड़ा बाजार होते हुए माया देवी मंदिर पहुंची शोभायात्रा का स्थानीय नागरिकों व्यापारियों तथा श्रद्धालु भक्तों द्वारा जगह-जगह पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया तथा भगवान आनंद भैरव की पूजा अर्चना की। पौराणिक श्री आनंद भैरव मंदिर के मुख्य पुजारी वशिष्ठ गिरी महाराज ने बताया कल बुधवार को भगवान भैरव का जन्मोत्सव है। इस अवसर पर भगवान आनंद भैरव का विशिष्ट श्रृंगार किया जाएगा। पौराणिक परंपराओं और मान्यताओं के अनुसार मध्य रात्रि में भैरव भगवान का उत्सव मनाया जाएगा तथा विशेष महाआरती की जाएगी।  इस मौके पर नागा सन्यासियों के अतिरिक्त हजारों श्रद्धालु भक्त उपस्थित रहेंगे। बृहस्पतिवार को प्रसाद वितरण किया जाएगा। श्री महंत हरि गिरि महाराज ने काल भैरव भगवान को शिव का ही अवतार बताते हुए कहा कि 16 नवंबर बुधवार को काल भैरव अष्टमी को उनका जन्म उत्सव जूना अखाड़े में धूमधाम से मनाया जाएगा। उन्होंने बताया काल भैरव भगवान शिव का रूद्र रूप है। मान्यता है कि इस दिन इनका व्रत पूजा करने से भगवान शिव जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं और सभी मनोरथ पूरी कर देते हैं। वर्तमान में भैरव की उपासना बटुक भैरव तथा काल भैरव के रूप में प्रचलित है ।काल भैरव रौद्र रूप के लिए जाने जाते हैं जो नकारात्मक शक्तियों को दंड देते हैं तथा सभी प्रकार के तंत्र मंत्र प्रेत बाधाओं से अपने भक्तों की रक्षा करते हैं। इन्हें भीषण भैरव,चंद्र भैरव, क्रोध भैरव,रूद्र भैरव ,असितांग भैरव,संहार भैरव, कपाली भैरव तथ उन्मुक्त भैरव के रूप में भी जाना जाता है। इसके विपरीत बटुक भैरव अथवा आनंद भैरव इनका सौम्य रूप है । यह अपने भक्तों को सौम्य रूप में अभय प्रदान करते हैं तथा उनकी रक्षा करते हैं । श्री महंत हरी गिरी महाराज ने बताया काल भैरव को खिचड़ी, गुड़, तेल, चावल आदि का भोग लगाया जाता है। इनकी पूजा अर्चना के पश्चात भगवान शिव पार्वती गणेश तथा कार्तिकेय जी की पूजा अवश्य करनी चाहिए। साथ ही इनके वाहन कुत्ते को मीठी रोटी या गुड़ के पुए अवश्य खिलाने चाहिए। मंगलवार को निकाली गई शोभायात्रा में अखाड़े के राष्ट्रीय सचिव श्री महंत महेश पुरी, श्री महंत पशुपति गिरी, थानापति कोठारी महंत महाकाल गिरी, महंत हीरा भारती, श्रीमहंत सुरेशनंद सरस्वती,थानापति राजेंद्र गिरी ,महंत रतन गिरी, महंत राज गिरी ,महंत अमृत पुरी, महंत भीषम गिरी, महंत ग्वाला पुरी सहित बड़ी संख्या में साधु संतों के अलावा आम श्रद्धालु भी शामिल हुए।


Comments

Popular posts from this blog

धूमधाम से गंगा जी मे प्रवाहित होगा पवित्र जोत,होगा दुग्धाभिषेक -डॉ0नागपाल

 112वॉ मुलतान जोत महोत्सव 7अगस्त को,लाखों श्रद्वालु बनेंगे साक्षी हरिद्वार। समाज मे आपसी भाईचारे और शांति को बढ़ावा देने के संकल्प के साथ शुरू हुई जोत महोसत्व का सफर पराधीन भारत से शुरू होकर स्वाधीन भारत मे भी जारी है। पाकिस्तान के मुल्तान प्रान्त से 1911 में भक्त रूपचंद जी द्वारा पैदल आकर गंगा में जोत प्रवाहित करने का सिलसिला शुरू हुआ जो आज भी अनवरत 112वे वर्ष में भी जारी है। इस सांस्कृतिक और सामाजिक परम्परा को जारी रखने का कार्य अखिल भारतीय मुल्तान युवा संगठन बखूबी आगे बढ़ा रहे है। संगठन अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नागपाल व अन्य पदाधिकारियो ने रविवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से  मुल्तान जोत महोत्सव के संबंध मे वार्ता की। वार्ता के दौरान डॉ नागपाल ने बताया कि 7 अगस्त को धूमधाम से  मुलतान जोट महोत्सव सम्पन्न होगा जिसके हजारों श्रद्धालु गवाह बनेंगे। उन्होंने बताया कि आजादी के 75वी वर्षगांठ पर जोट महोत्सव को तिरंगा यात्रा के साथ जोड़ने का प्रयास होगा। श्रद्धालुओं द्वारा जगह जगह सुन्दर कांड का पाठ, हवन व प्रसाद वितरण होगा। गंगा जी का दुग्धाभिषेक, पूजन के साथ विशेष ज्योति गंगा जी को अर्पित करेगे।

बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दलों ने 127 कांवडियों,श्रद्धालुओं को गंगा में डूबने से बचाया

  हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशन, अपर जिलाधिकारी पी0एल0शाह के मुख्य संयोजन एवं नोडल अधिकारी डा0 नरेश चौधरी के संयोजन में कांवड़ मेले के दौरान बी0ई0जी0 आर्मी के तैराक दल अपनी मोटरबोटों एवं सभी संसाधनों के साथ कांवडियों की सुरक्षा के लिये गंगा के विभिन्न घाटों पर तैनात होकर मुस्तैदी से हर समय कांवड़ियों को डूबने से बचा रहे हैं। बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा कांवड़ मेला अवधि के दौरान 127 शिवभक्त कांवडियों,श्रद्धालुओं को डूबने से बचाया गया। 17 वर्षीय अरूण निवासी जालंधर, 24 वर्षीय मोनू निवासी बागपत, 18 वर्षीय अमन निवासी नई दिल्ली, 20 वर्षीय रमन गिरी निवासी कुरूक्षेत्र, 22 वर्षीय श्याम निवासी सराहनपुर, 23 वर्षीय संतोष निवासी मुरादाबाद, 18 वर्षीय संदीप निवासी रोहतक आदि को विभिन्न घाटों से बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा गंगा में डूबने से बचाया गया तथा साथ ही साथ प्राथमिक उपचार देकर उन सभी कांवडियों को चेतावनी दी गयी कि गंगा में सुरक्षित स्थानों में ही स्नान करें। कांवड़ मेला अवधि के दौरान बी0ई0जी0आर्मी तैराक दल एवं रेड क्रास स्वयंसेवकों द्वारा गंगा के पुलों एवं घाटों पर माइकिं

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए