Skip to main content

मानवाधिकार उसी को प्राप्त होते है जो अपने कर्तव्यों के प्रति निष्ठावान होता है-नरेश बंसल

 


हरिद्वार। राष्ट्रीय मानव अधिकार संरक्षण समिति ट्रस्ट के तत्वावधान में प्राचीन भारतीय इतिहास संस्कृति एवं पुरातत्व विभाग के सभागार में विश्व मानवाधिकार दिवस के उपलक्ष्य में भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राज्यसभा सांसद नरेश बंसल ने कहा कि मानव अधिकार उसी को प्राप्त होते है जो अपने कर्तव्यों के प्रति निष्ठावान होता है। मानव अधिकार व्यक्ति को विधि विधान के अन्दर जीना सिखाते हैं। विश्व स्तर पर मानवाधिकार का महत्व अत्यधिक है। मानवाधिकार एक स्वतंत्र विधि पाठशाला का कार्य बन गया है जिसे लोग अपने अधिकार के लिए प्रयोग करने लगे हैं। उन्होंने नई शिक्षा नीति के अन्तर्गत वैदिक शिक्षा प्रणाली को वर्तमान दौर में लागू करने के लिए केन्द्र सरकार द्वारा कदम उठाए गए है। गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो0 सोमदेव शतांशु ने कहा कि मानव अधिकार को लेकर बहुत सारे प्रसंग वेदों में दिए गए है। वेदों के अनुसार मानव अधिकार का उल्लेख किया जाए तो वैदिक संस्कृति का प्रचार-प्रसार होगा। वैदिक संस्कृति पर वर्तमान युग में नए-नए पाठ्यक्रम तैयार कराए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि गुरुकुल कांगड़ी समविश्वविद्यालय में मानव अधिकार संरक्षण समिति द्वारा वैदिक पत्रिका का प्रकाशन अवश्य किया जाए जिससे स्वामी दयानन्द सरस्वती की वैदिक पताका का प्रचार-प्रसार हो सके। रानीपुर विधानसभा के विधायक आदेश चौहान ने कहा कि मानव अधिकार संरक्षण समिति प्रत्येक वर्ष विश्व मानवाधिकार दिवस मनाती है। उन्होंने समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष इंजी0 मधुसूदन आर्य के क्रियाकलापों पर जोर देते हुए कहा कि सीनियर सिटीजन होने के पश्चात भी मधुसूदन आर्य लगातार सामाजिक कार्यो में संलग्न रहते है और अपने जीवन की कतई परवाह नहीं करते। निरंजनी अखाड़े के महंत रतन गिरि ने कहा कि समिति लगातार सामाजिक कार्य कर रही है, जिससे लोगों को जागरूकता देखने को मिल रही है। जागरूकता देखने से यह लाभ लोगों को प्राप्त हो रहा है। चलती फिरती जिन्दगी में वह अपने अधिकारों का सही मायने में उपभोग कर सकें। गुरुकुल कांगड़ी समविश्वविद्यालय के कुलसचिव प्रो0 सुनील कुमार ने कहा कि विश्व में शांति आ सकती है जिसको केवल भारत ही दे सकता है। भारत देश के पास संस्कृति और संस्कार दोनों ही विद्यमान है। संस्कृति पर ध्यान देने से विश्व में मानव अधिकार का वैदिक संरक्षण हो सकता है। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए समिति के राष्ट्रीय ईजी. मधुसूदन आर्य ने अध्यक्षीय संबोधन में कहा कि वर्तमान समय में अपने अधिकारों व कर्तव्यों के प्रति समाज में जागरूकता के उद्देश्य को पूर्ण करने की दिशा में संगठन निरंतर अग्रसर है। कार्यक्रम का संचालन विमल कुमार गर्ग ने किया। कार्यक्रम में अनन्या भटनागर के ग्रुप द्वारा स्वागत गान गाया गया। इस अवसर पर जगदीश लाल पाहवा,डा0 विशाल गर्ग, जितेन्द्र कुमार शर्मा, क्रान्तिकारी शालू सैनी आदि ने संबोधित किया। प्रो0 डी0एस0 मलिक,प्रो0 सुनील कुमार, डा0मोना शर्मा,प्रमोद कुमार,हेमन्त सिंह नेगी,डा0पंकज कौशिक,कुलभूषण शर्मा,रेखा नेगी,राधिका नागरथ,अधीर कौशिक,अध्यक्ष गंगा सभा प्रदीप झा, चंचल कौशिक,ललित मिगलानी,मुदित अग्रवाल,निधि जैन,पार्षद नागेन्द्र राणा,प्रो0मनुदेव बन्धु,सुनील दत्त कौठारी,चंचल कौशिक,मंगेश शर्मा,ईश्वर चन्द्र अग्रवाल, धनप्रकाश गोयल,सुनील कुमार अग्रवाल,सीमा सचदेवा,रूद्रांश, दिशी गर्ग, अंजली माहेश्वरी आदि सम्मानित किए गए।


Comments

Popular posts from this blog

धूमधाम से गंगा जी मे प्रवाहित होगा पवित्र जोत,होगा दुग्धाभिषेक -डॉ0नागपाल

 112वॉ मुलतान जोत महोत्सव 7अगस्त को,लाखों श्रद्वालु बनेंगे साक्षी हरिद्वार। समाज मे आपसी भाईचारे और शांति को बढ़ावा देने के संकल्प के साथ शुरू हुई जोत महोसत्व का सफर पराधीन भारत से शुरू होकर स्वाधीन भारत मे भी जारी है। पाकिस्तान के मुल्तान प्रान्त से 1911 में भक्त रूपचंद जी द्वारा पैदल आकर गंगा में जोत प्रवाहित करने का सिलसिला शुरू हुआ जो आज भी अनवरत 112वे वर्ष में भी जारी है। इस सांस्कृतिक और सामाजिक परम्परा को जारी रखने का कार्य अखिल भारतीय मुल्तान युवा संगठन बखूबी आगे बढ़ा रहे है। संगठन अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नागपाल व अन्य पदाधिकारियो ने रविवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से  मुल्तान जोत महोत्सव के संबंध मे वार्ता की। वार्ता के दौरान डॉ नागपाल ने बताया कि 7 अगस्त को धूमधाम से  मुलतान जोट महोत्सव सम्पन्न होगा जिसके हजारों श्रद्धालु गवाह बनेंगे। उन्होंने बताया कि आजादी के 75वी वर्षगांठ पर जोट महोत्सव को तिरंगा यात्रा के साथ जोड़ने का प्रयास होगा। श्रद्धालुओं द्वारा जगह जगह सुन्दर कांड का पाठ, हवन व प्रसाद वितरण होगा। गंगा जी का दुग्धाभिषेक, पूजन के साथ विशेष ज्योति गंगा जी को अर्पित करेगे।

बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दलों ने 127 कांवडियों,श्रद्धालुओं को गंगा में डूबने से बचाया

  हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशन, अपर जिलाधिकारी पी0एल0शाह के मुख्य संयोजन एवं नोडल अधिकारी डा0 नरेश चौधरी के संयोजन में कांवड़ मेले के दौरान बी0ई0जी0 आर्मी के तैराक दल अपनी मोटरबोटों एवं सभी संसाधनों के साथ कांवडियों की सुरक्षा के लिये गंगा के विभिन्न घाटों पर तैनात होकर मुस्तैदी से हर समय कांवड़ियों को डूबने से बचा रहे हैं। बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा कांवड़ मेला अवधि के दौरान 127 शिवभक्त कांवडियों,श्रद्धालुओं को डूबने से बचाया गया। 17 वर्षीय अरूण निवासी जालंधर, 24 वर्षीय मोनू निवासी बागपत, 18 वर्षीय अमन निवासी नई दिल्ली, 20 वर्षीय रमन गिरी निवासी कुरूक्षेत्र, 22 वर्षीय श्याम निवासी सराहनपुर, 23 वर्षीय संतोष निवासी मुरादाबाद, 18 वर्षीय संदीप निवासी रोहतक आदि को विभिन्न घाटों से बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा गंगा में डूबने से बचाया गया तथा साथ ही साथ प्राथमिक उपचार देकर उन सभी कांवडियों को चेतावनी दी गयी कि गंगा में सुरक्षित स्थानों में ही स्नान करें। कांवड़ मेला अवधि के दौरान बी0ई0जी0आर्मी तैराक दल एवं रेड क्रास स्वयंसेवकों द्वारा गंगा के पुलों एवं घाटों पर माइकिं

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए