Skip to main content

फार्मा कम्पनियों का उद्देश्य कम लागत में ज्यादा मुनाफा कमाना-स्वामी रामदेव

 


हरिद्वार। पतंजलि अनुसंधान संस्थान के तत्वाधान में ‘आधुनिक चिकित्सा तथा आयुर्वेद के अंतर को पाटने के लिए एकीकृत दृष्टिकोण रखते हुए एक मंच पर चर्चा’ विषय पर आयोजित सम्मेलन के दूसरे दिन स्वामी रामदेव ने कहा कि आज औद्योगिकरण बहुत गलत दिशा में जा रहा है। वर्तमान में सबसे ज्यादा पैसा फार्मा कंपनियों के पास है। दुर्भाग्य से पूरी दुनिया में मेडिकेशन का सोर्स फार्मा कम्पनियों के पास ही है और उनका उद्देश्य कम से कम निवेश के साथ ज्यादा से ज्यादा लाभ कमाना है। जिस तरह मेडिकल व फार्मा इण्डस्ट्री काम कर रही है, उस पर पूरी दुनिया को विचार करना होगा। मनुष्य को स्वयं विवेकी बनना होगा, जिम्मेदार बनना होगा। स्वामी रामदेव ने कहा कि कि एलोपैथ चिकित्सक दवा निर्माण नहीं कर सकता। किन्तु आयुर्वेद में चिकित्सक लगभग एक हजार औषधियाँ बनाने में सक्षम है। यह आयुर्वेद की आत्मनिर्भरता है। उन्होंने कहा कि वे कोई आयुर्वेद के चिकित्सक नहीं बल्कि योगी हैं। लेकिन उन्होंने अपने हाथों से रस, रसायन, भस्म, पिष्टी, चूर्ण, पाक, अवलेह आदि बनाए हैं। चर्चा को ऑनलाईन संबोधित करते हुए आचार्य बालकृष्ण महाराज ने कहा कि यदि हम अपनी संस्कृति, परंपरा और अपनी परंपरागत विद्या को आधुनिक विज्ञान सम्मत स्थापित कर पाते हैं तो देश ही नहीं पूरी दुनिया उसे स्वीकार करने के लिए बाध्य होगी। स्वामी रामदेव के नेतृत्व में आयुर्वेद का वैभव सब के सहयोग के विश्वव्यापी बनेगा।पतंजलि अनुसंधान संस्थान के प्रमुख वैज्ञानिक डा.अनुराग वार्ष्णेय ने कहा कि पतंजलि ने गिलोय, तुलसी, अष्टवर्ग पादप, अश्वगंधा पर आधुनिक पैरामीटर्स के आधार पर अनुसंधान कर तथ्यों के साथ उनके चमत्कारी प्रभावों को दुनिया के सामने रखा है। पतंजलि पहला संस्थान है। जिसने आयुर्वेद को एविडेंस बेस्ड मेडिसिन का दर्जा दिलाने की ओर ठोस कदम बढ़ाया है। एआइएमएस भोपाल व एआइएमएस जम्मू के प्रो.वाई.के.गुप्ता ने कहा कि आयुर्वेद बहुत प्राचीन है। यह ऐसा विज्ञान है जिसको हमने भुला दिया था। एलोपैथी और आयुर्वेद दोनों को मिलाकर एकीकृत चिकित्सा पद्धति बनाए जाने का प्रयास किया जाना चाहिए। एनआईएमएस विश्वविद्यालय, जयपुर के डायरेक्टर सर्जिकल डिसिप्लिंस प्रोफेसर अनुराग श्रीवास्तव ने कहा कि हम स्वामी रामदेव के दिशानिर्देशन में एक नई दिशा में आगे बढ़ रहे हैं। महर्षि मार्कण्डेश्वर इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस एण्ड रिसर्च मुलाना के प्रोफेसर एण्ड फार्माकोलॉजी हैड प्रो.प्रेम खोसला ने कहा कि पतंजलि ने वर्ल्ड हर्बल इन्साइक्लोपीडिया में वृहद् आयुर्वेदीय ज्ञान को समेटा है। उन्होंने कहा कि समय व काल की कसौटी पर परखी पारम्परिक आयुर्वेदिक औषधियाँ दुष्परिणाम रहित हैं। 21 जून को योग दिवस मनाना दुनिया बदलने वाली बात है। एआइआइएमएस भोपाल के डीन रिसर्च तथा माइक्रोबायोलॉजी के विभाग प्रमुख प्रो.देबासीस बिस्वास ने ‘द आयुर्वेदा विण्डो इन द हाऊस ऑफ मेडिसिन’ विषय पर तथा पतंजलि अनुसंधान संस्थान की वरिष्ठ वैज्ञानिक डा.स्वाति हलदर ने ‘एविडेंस बेस्ड आयुर्वेदिक सॉल्युशन्स फॉर इन्फैक्शियस डिजीज’ विषय पर चर्चा की। बीएचयू, बनारस के रस शास्त्र व भैषज्ञ कल्पना विभाग के सहायक प्राचार्य डा.रोहित शर्मा ने ‘बॉयोलॉजिकल प्लासिबल एण्ड एविडेंस बेस्ड इनसाइट्स ऑन आयुर्वेदिक फार्मास्यूटिकल्स’ तथा पतंजलि अनुसंधान संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा.कुनाल भट्टाचार्य ने ‘एक्सप्लोरिंग ट्रेडिशनल आयुर्वेदा मेडिसिन फ्राम नैनोमैडिसिन प्रोस्पेक्टिव’ विषय पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम के अंतिम सत्र में पतंजलि आयुर्वेद कॉलेज के प्राचार्य प्रो.अनिल कुमार ने ‘क्लिनिकल एसस्मेंट ऑफ स्वेर्टिया चिरायता इन पेशंट्स ऑफ डायबिटीज मेलाइटस’,डीन ऑफ पीजी स्टडीज के प्रो.सी.बी. धनराज ने ‘ट्रेडिशनल हर्ब्स फॉर हैल्थ एविडेंस बेस्ड अप्रोच’ तथा द्रव्यगुण विज्ञान विभाग के सहायक प्राचार्य डा.राजेश मिश्र ने ‘डिकोडिंग ट्रेडिशनल मेडिसिनल हैरिटेज ऑफ वर्ल्ड एण्ड अनलिशिंग इट्स वाइटेलिटी’ विषय पर विचार रखे। कार्यक्रम में पतंजलि अनुसंधान संस्थान के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा.ऋषभदेव, डी.जी.एम. ऑपरेशन प्रदीप नैन,डा.निखिल मिश्रा,डा.सीमा गुजराल,डा.ज्योतिष श्रीवास्तव, देवेन्द्र कुमावत, संदीप सिन्हा तथा डा.कुणाल भट्टाचार्य का विशेष सहयोग रहा।


Comments

Popular posts from this blog

धूमधाम से गंगा जी मे प्रवाहित होगा पवित्र जोत,होगा दुग्धाभिषेक -डॉ0नागपाल

 112वॉ मुलतान जोत महोत्सव 7अगस्त को,लाखों श्रद्वालु बनेंगे साक्षी हरिद्वार। समाज मे आपसी भाईचारे और शांति को बढ़ावा देने के संकल्प के साथ शुरू हुई जोत महोसत्व का सफर पराधीन भारत से शुरू होकर स्वाधीन भारत मे भी जारी है। पाकिस्तान के मुल्तान प्रान्त से 1911 में भक्त रूपचंद जी द्वारा पैदल आकर गंगा में जोत प्रवाहित करने का सिलसिला शुरू हुआ जो आज भी अनवरत 112वे वर्ष में भी जारी है। इस सांस्कृतिक और सामाजिक परम्परा को जारी रखने का कार्य अखिल भारतीय मुल्तान युवा संगठन बखूबी आगे बढ़ा रहे है। संगठन अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नागपाल व अन्य पदाधिकारियो ने रविवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से  मुल्तान जोत महोत्सव के संबंध मे वार्ता की। वार्ता के दौरान डॉ नागपाल ने बताया कि 7 अगस्त को धूमधाम से  मुलतान जोट महोत्सव सम्पन्न होगा जिसके हजारों श्रद्धालु गवाह बनेंगे। उन्होंने बताया कि आजादी के 75वी वर्षगांठ पर जोट महोत्सव को तिरंगा यात्रा के साथ जोड़ने का प्रयास होगा। श्रद्धालुओं द्वारा जगह जगह सुन्दर कांड का पाठ, हवन व प्रसाद वितरण होगा। गंगा जी का दुग्धाभिषेक, पूजन के साथ विशेष ज्योति गंगा जी को अर्पित करेगे।

बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दलों ने 127 कांवडियों,श्रद्धालुओं को गंगा में डूबने से बचाया

  हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशन, अपर जिलाधिकारी पी0एल0शाह के मुख्य संयोजन एवं नोडल अधिकारी डा0 नरेश चौधरी के संयोजन में कांवड़ मेले के दौरान बी0ई0जी0 आर्मी के तैराक दल अपनी मोटरबोटों एवं सभी संसाधनों के साथ कांवडियों की सुरक्षा के लिये गंगा के विभिन्न घाटों पर तैनात होकर मुस्तैदी से हर समय कांवड़ियों को डूबने से बचा रहे हैं। बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा कांवड़ मेला अवधि के दौरान 127 शिवभक्त कांवडियों,श्रद्धालुओं को डूबने से बचाया गया। 17 वर्षीय अरूण निवासी जालंधर, 24 वर्षीय मोनू निवासी बागपत, 18 वर्षीय अमन निवासी नई दिल्ली, 20 वर्षीय रमन गिरी निवासी कुरूक्षेत्र, 22 वर्षीय श्याम निवासी सराहनपुर, 23 वर्षीय संतोष निवासी मुरादाबाद, 18 वर्षीय संदीप निवासी रोहतक आदि को विभिन्न घाटों से बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा गंगा में डूबने से बचाया गया तथा साथ ही साथ प्राथमिक उपचार देकर उन सभी कांवडियों को चेतावनी दी गयी कि गंगा में सुरक्षित स्थानों में ही स्नान करें। कांवड़ मेला अवधि के दौरान बी0ई0जी0आर्मी तैराक दल एवं रेड क्रास स्वयंसेवकों द्वारा गंगा के पुलों एवं घाटों पर माइकिं

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए