Skip to main content

गुरूकुल महाविद्यालय में प्रथम जनपद स्तरीय संस्कृत छात्र खेल प्रतियोगिता शुरू

 प्रदेश सरकार संस्कृत के संरक्षण एवं संवर्धन का कार्य कर रही है-आदेश चौहान 


हरिद्वार। गुरूकुल महाविद्यालय में आयोजित प्रथम जनपद स्तरीय संस्कृत छात्र खेल प्रतियोगिता का उद्घाटन क्षेत्रीय विधायक आदेश चौहान,पूर्व कैबिनेट मंत्री स्वामी यतिश्वरानंद, गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सोमदेव सुधांशु, संस्कृत शिक्षा निदेशक डा.शिवप्रसाद खाली, उपनिदेशक पद्माकर मिश्र,संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलसचिव गिरीश कुमार अवस्थी, गुरुकुल महाविद्यालय के मुख्य अधिष्ठाता सोमप्रकाश चौहान ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलन एवं ध्वज फहरा कर किया। धावक यश नैलवाल ने एथलेटिक मशाल लेकर प्रतियोगिताओं का विधिवत शुभारंभ किया। छात्रों ने खेल के नियमों की प्रतिज्ञा लेकर खेल भावना से खेलने का संकल्प दोहराया। मुख्य अतिथि विधायक आदेश चौहान ने कहा कि वर्तमान में प्रदेश सरकार एवं केंद्र सरकार संस्कृत के संरक्षण एवं संवर्धन का कार्य कर रही है। इस तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन पूरे प्रदेश में होना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की प्रतियोगिताओं की शुरुआत से संस्कृत शिक्षा में एक नया आयाम स्थापित होगा। गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सोमदेव सुधांशु ने कहा कि संस्कृत के छात्र अन्य छात्रों से किसी प्रकार कम नहीं है। संस्कृत भाषा प्राचीन भाषा है। संस्कृत भाषा को पढ़ने लिखने वाले छात्रों ने विश्व पटल पर नए कीर्तिमान स्थापित किए हैं। आवश्यकता है उन्हें अवसर प्रदान करने और उपयुक्त संसाधन उपलब्ध कराने की। उन्होंने छात्रों को शुभकामनाएं देते हुए खेल को खेल की भावना से खेलने के लिए प्रेरित किया। संस्कृत शिक्षा निदेशक डा.शिव प्रसाद खाली ने कहा कि संस्कृत शिक्षा में खेल प्रतियोगिताओं का प्रारंभ होना मील का पत्थर साबित होगा। उन्होंने इस प्रयास के लिए हरिद्वार जनपद के शिक्षकों एवं हरिद्वार संस्कृत शिक्षा विभाग के सहायक निदेशक को साधुवाद दिया। उन्होंने छात्रों से आह्वान किया की पढ़ाई के साथ-साथ शारीरिक रूप से स्वस्थ होना आज की आवश्यकता है,क्योंकि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क का वास होता है। उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय के कुलसचिव गिरीश कुमार अवस्थी ने कहा कि इस प्रकार की प्रतियोगिताओं का प्रारंभ होना से संस्कृत के छात्रों को हर क्षेत्र में आगे बढ़ने की प्रेरणा मिलेगी। ऋषि  संस्कृत महाविद्यालय के परमाध्यक्ष ऋषि रामकृष्ण ने छात्रों से आह्वान किया कि प्रबंधक प्रत्येक परिस्थिति में संस्कृत विद्यालय चलाने को तैयार हैं। इसमें सभी का सहयोग अपेक्षित है। संस्कृत अध्ययन अध्यापन के साथ समाज के विभिन्न क्षेत्रों में छात्रों को अपनी भूमिका का निर्वहन करना होगा। संस्कृत के छात्र जब हर क्षेत्र में आगे होंगे तो निश्चित रूप से भ्रष्टाचार, कदाचार दूर करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका का निर्वहन कर सकते हैं। पूर्व विधायक स्वामी यतिश्वरानंद महाराज ने कहा कि ऐसी प्रतियोगिताओं से छात्रों के बीच सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। संस्कृत के छात्र वाद-विवाद, श्लोकोचारण प्रतियोगिताओं के साथ-साथ शारीरिक प्रतियोगिताओं में अपना दमखम दिखाएं और अन्य विधा के छात्रों से प्रतिस्पर्धा करने के लिए अपने आपको तैयार करें। सही मायने में संस्कृत के छात्रों के लिए एक अनूठी परंपरा का आगाज गुरुकुल की धरती से हुआ है। निश्चित रूप से छात्र अपने लक्ष्य को प्राप्त करेंगे। सहायक निदेशक डा.वाजश्रवा आर्य ने अतिथियों का स्वागत किया। इस अवसर पर सिटी मजिस्ट्रेट अवधेश प्रताप सिंह,डा.प्रेमचंद शास्त्री,हरि गोपाल शास्त्री, अजय कौशिक, सोम प्रकाश चौहान, पंडित हेमंत तिवारी, डा.नवीन चंद्र, कुलदीप चंद्र,राकेश मेघवाल, अजमोद मोदी, दिनेश चौहान,विजय शास्त्री, सहित समस्त विद्यालयों के प्रधानाचार्य शिक्षक शिक्षिकाएं एवं छात्र उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन डा.प्रकाश चंद जोशी ने किया। आयोजन समिति के सदस्य डा.नवीन चंद्र पंत ने बताया कि प्रतियोगिता में 350 से ज्यादा छात्र प्रतिभाग कर रहे हैं। प्रतियोगिताओं में 800 मीटर दौड प्रतिस्पर्धा में यश नैलवाल ऋषिकुल विद्यापीठ प्रथम ,हिमांशु बेलवाल उत्तराखंड संस्कृत विश्वविद्यालय द्वितीय,पंकज सैनी गुरुकुल महाविद्यालय ज्वालापुर तृतीय स्थान प्राप्त किया। वही कनिष्ठ वर्ग में आदेश गुरुकुल महाविद्यालय प्रथम, रितिक गुरुकुल महाविद्यालय द्वितीय एवं आदेश कुमार गुरुकुल महाविद्यालय तृतीय स्थान पर रह।े उप कनिष्ठ वर्ग मे विशाल गुरुकुल महाविद्यालय प्रथम, सनी गुरुकुल महाविद्यालय द्वितीय एवं हिमांशु कुमार श्री चंद्र संस्कृत महाविद्यालय ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।


Comments

Popular posts from this blog

धूमधाम से गंगा जी मे प्रवाहित होगा पवित्र जोत,होगा दुग्धाभिषेक -डॉ0नागपाल

 112वॉ मुलतान जोत महोत्सव 7अगस्त को,लाखों श्रद्वालु बनेंगे साक्षी हरिद्वार। समाज मे आपसी भाईचारे और शांति को बढ़ावा देने के संकल्प के साथ शुरू हुई जोत महोसत्व का सफर पराधीन भारत से शुरू होकर स्वाधीन भारत मे भी जारी है। पाकिस्तान के मुल्तान प्रान्त से 1911 में भक्त रूपचंद जी द्वारा पैदल आकर गंगा में जोत प्रवाहित करने का सिलसिला शुरू हुआ जो आज भी अनवरत 112वे वर्ष में भी जारी है। इस सांस्कृतिक और सामाजिक परम्परा को जारी रखने का कार्य अखिल भारतीय मुल्तान युवा संगठन बखूबी आगे बढ़ा रहे है। संगठन अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नागपाल व अन्य पदाधिकारियो ने रविवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से  मुल्तान जोत महोत्सव के संबंध मे वार्ता की। वार्ता के दौरान डॉ नागपाल ने बताया कि 7 अगस्त को धूमधाम से  मुलतान जोट महोत्सव सम्पन्न होगा जिसके हजारों श्रद्धालु गवाह बनेंगे। उन्होंने बताया कि आजादी के 75वी वर्षगांठ पर जोट महोत्सव को तिरंगा यात्रा के साथ जोड़ने का प्रयास होगा। श्रद्धालुओं द्वारा जगह जगह सुन्दर कांड का पाठ, हवन व प्रसाद वितरण होगा। गंगा जी का दुग्धाभिषेक, पूजन के साथ विशेष ज्योति गंगा जी को अर्पित करेगे।

बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दलों ने 127 कांवडियों,श्रद्धालुओं को गंगा में डूबने से बचाया

  हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशन, अपर जिलाधिकारी पी0एल0शाह के मुख्य संयोजन एवं नोडल अधिकारी डा0 नरेश चौधरी के संयोजन में कांवड़ मेले के दौरान बी0ई0जी0 आर्मी के तैराक दल अपनी मोटरबोटों एवं सभी संसाधनों के साथ कांवडियों की सुरक्षा के लिये गंगा के विभिन्न घाटों पर तैनात होकर मुस्तैदी से हर समय कांवड़ियों को डूबने से बचा रहे हैं। बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा कांवड़ मेला अवधि के दौरान 127 शिवभक्त कांवडियों,श्रद्धालुओं को डूबने से बचाया गया। 17 वर्षीय अरूण निवासी जालंधर, 24 वर्षीय मोनू निवासी बागपत, 18 वर्षीय अमन निवासी नई दिल्ली, 20 वर्षीय रमन गिरी निवासी कुरूक्षेत्र, 22 वर्षीय श्याम निवासी सराहनपुर, 23 वर्षीय संतोष निवासी मुरादाबाद, 18 वर्षीय संदीप निवासी रोहतक आदि को विभिन्न घाटों से बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा गंगा में डूबने से बचाया गया तथा साथ ही साथ प्राथमिक उपचार देकर उन सभी कांवडियों को चेतावनी दी गयी कि गंगा में सुरक्षित स्थानों में ही स्नान करें। कांवड़ मेला अवधि के दौरान बी0ई0जी0आर्मी तैराक दल एवं रेड क्रास स्वयंसेवकों द्वारा गंगा के पुलों एवं घाटों पर माइकिं

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए