Skip to main content

तीन दिवसीय ‘प्लांट्स टू पेशन्ट्स-एथनोफार्माकोलॉजी पर पुनर्विचार’ का शुभारम्भ

 पतंजलि ने तोड़ा बीपी, डायबिटीज, सोराइसिस, अर्थराइटिस आदि रोेगों में आजीवन दवा खाने का मिथक-स्वामी रामदेव


हरिद्वार। पतंजलि अनुसंधान संस्थान के तत्वाधान में आधुनिक चिकित्सा तथा आयुर्वेद के अंतर को पाटने के लिए पतंजलि विश्वविद्यालय स्थित सभागार में तीन दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन ‘प्लांट्स टू पेशन्ट्स-एथनोफार्माकोलॉजी पर पुनर्विचार’ का शुभारम्भ किया गया। जिसमें देश-विदेश के प्रतिष्ठित संस्थानों के चिकित्सकों व वैज्ञानिकों ने भाग लिया। इस अवसर पर स्वामी रामदेव महाराज ने कहा कि हमारी किसी भी अन्य पद्धति से कोई प्रतिस्पर्धा नहीं है, हमारी प्रतिस्पर्धा स्वयं से है। उन्होंने कहा कि हम योग,आयुर्वेद, नेचुरोपैथी, इण्डियन ट्रेडिशनल सिस्टम व सनातन जीवन पद्धति पर विश्वास करते हैं तथा इनको आत्मसात करके विभिन्न रोगों पर विजय प्राप्त करने वाले लगभग पांच जीवंत उदाहरण हमेशा मेरे पास रहते हैं। स्वामी रामदेव महाराज ने कहा कि एक मिथक चल रहा था कि बीपी, डायबिटीज, सोराइसिस, अर्थराइटिस आदि रोगों के लिए आपको आजीवन दवा खानी पड़ेगी, स्टेराइड लेने पड़ेंगे। पतंजलि ने इस मिथक को गलत साबित करके दिखाया है। हम रोगमुक्त बनाते हैं, दवामुक्त बनाते हैं और ऑपरेशन की 90 प्रतिशत संभावना को टाल सकते हैं। ये योग, आयुर्वेद व हमारे पूर्वजों के विज्ञान की शक्ति है। पतंजलि फाइटोकैमिकल्स अर्थात् औषधियों के सूक्ष्म घटक पर काम कर रही हैं। पंतजलि ने औषधियों व वनस्पतियों के घनसत्वों पर शोध किया और जो पूरी दुनिया से नहीं हो पाया। विश्व स्वास्थ्य संगठन व माडर्न मेडिकल सिस्टम नहीं कर पाया, वह काम पतंजलि ने करके दिखाया है। आयुर्वेद के माध्यम से क्लिनिकल कंट्रोल ट्रायल करके एविडेंस बेस्ड मेडिसिन का दर्जा दिलाने का कार्य पतंजलि कर रहा है।इस अवसर पतंजलि की इंटिग्रेटेड चिकित्सा पद्धति के द्वारा ब्लड कैंसर, सोराइसिस, अर्थराइटिस व फैटी लिवर, टाइप-1 डायबिटिज आदि विभिन्न रोगों को परास्त करने वाले रोगियों को जीवंत उदाहरण के तौर पर मंच पर प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम में आचार्य बालकृष्ण महाराज ने कहा कि 8 देशों के सम्मानित वैज्ञानिक इस अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भाग ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि चिकित्सा विज्ञान में एविडेंस बेस्ड मेडिसिन की बात की जाती है। पतंजलि ने योग व आयुर्वेद को एविडेंस बेस्ड मेडिसिन पर आधारित चिकित्सा विधा के रूप में स्थापित करने का बड़ा कार्य किया है। यह कार्य किसी संस्था या किसी व्यक्ति का नहीं है, यह मानवता का कार्य है।उन्होंने कहा कि आज पूरे विश्व में योग की चर्चा होती है या उस चर्चा को वैश्विक बनाने का काम कहीं से होता है तो वह पतंजलि संस्थान है। स्वामी रामदेव ने प्रत्यक्ष रूप से लगभग 10 करोड़ तथा परोक्ष रूप से 80 से 100 करोड़ की जनसंख्या को योग के साथ जोड़ा है। लगभग 1 करोड़ रोगियों का डॉटा इ.एम.आर. सिस्टम में पतंजलि के पास उपलब्ध है। दुनिया के 70 प्रतिशत देश के रोगी पतंजलि पहुँच चुके हैं। आबादी की दृष्टि से बात करें तो कोई छोटा-मोटा देश होगा जो पतंजलि की चिकित्सा सेवाओं से वंचित रहा होगा। उन्होंने पतंजलि आयुर्वेद कॉलेज के विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि हम जो कर रहे हैं उसे हम और बेहतर कैसे कर सकते हैं, यह आप यहाँ से सीख सकते हैं। कार्यक्रम में पतंजलि अनुसंधान संस्थान के प्रमुख वैज्ञानिक डा.अनुराग वार्ष्णेय ने पतंजलि अनुसंधान संस्थान का परिचय दिया तथा संस्थान में संचालित शोध गतिविधियों की जानकारी दी। पतंजलि हर्बल रिसर्च डिविजन की विभागाध्यक्षा डा.वेदप्रिया आर्या ने पतंजलि हर्बल अनुसंधान का परिचय दिया। आइ.एस.ई.फाइटोमेडिसिन प्रोग्राम फैकल्टी ऑफ वेटेनिरनी मेडिसिन, प्रिटोरिआ,साउथ अफ्रिका के प्रो.जैकब्स निकोलस एलोफ ने‘यौगिकों और अर्क के व्यावसायीकरण के लिए स्वदेशी ज्ञान,विज्ञान और प्रौद्योगिकी के बीच एक सहभागिता की आवश्यकता’ विषय पर उद्बोधन दिया। उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.डा.सुनील कुमार जोशी ने आयुर्वेद और रोग मुक्त समाज के लिए आयुर्वेद की भूमिका विषय पर व्याख्यान दिया। ढाका विश्वविद्यालय,बांग्लादेश के डिपार्टमेंट ऑफ फार्मेसी प्रो.सितेश सी. बचार ने ऑनलाइन माध्यम से ‘प्राकृतिक उत्पादों का संश्लेषणःऔषधि विकास के लिए एक दृष्टिकोण’ विषय पर उद्बोधन दिया। पतंजलि आयुर्वेद कॉलेज के सहायक प्राध्यापक डा.राजेश मिश्र ने ‘नेचर्स सिग्नेचर इन आयुर्वेद विद एन एथनोफार्माकोलॉजिकल अप्रोच’ विषय पर चर्चा की। कॉलेज ऑफ चाइनीज मेडिसिन, चाइना मेडिकल यूनिवर्सिटी, ताइवान के डिपार्टमेंट ऑफ चाइनीज फार्मास्युटिकल्स साइंस एंड चाइनीज मेडिसिन रिसोर्सेज, प्रोफेसर ऑफ फार्माकोग्नॉसी प्रो.युआन श्युन चांग ने‘क्वालिटी कन्ट्रोल ऑफ टीसीएम हर्ब्स एण्ड हर्बल प्रिपरेशन्स इन ताइवान’ विषय पर चर्चा की। सम्मेलन में एनआईएमएस विश्वविद्यालय, जयपुर राजस्थान के निदेशक, सर्जिकल डिसिप्लिंस प्रोफेसर अनुराग श्रीवास्तव,सी.एस.आइ.आर.इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ इंटीग्रेटिव मेडिसिन जम्मू के नेचुरल प्रोडक्ट्स एंड मेडिसिन केमिस्ट्री डिविजन के विभागाध्यक्ष व सीनियर प्रिंसिपल साइंटिस्ट डा.संदीप बी. भराते, इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, रूड़की के डिपार्टमेंट ऑफ बायोसाइंस एंड बायोइंजीनियरिंग के प्रो.पार्थ रॉय तथा पतंजलि अनुसंधान संस्थान की सीनियर रिसर्च साइंटिस्ट डा.सविता लोचब ने भी अपने अनुसंधान साझा किए। इससे पूर्व पतंजलि विश्वविद्यालय के प्रति कुलपति डा.महावीर अग्रवाल ने आगन्तुक अतिथियों का स्वागत किया। पतंजलि के अनुसंधान व सेवाओं पर आधारित एक डॉक्यूमेंट्री फिल्म भी प्रदर्शित की गई। प्रथम दिन का समापन पतंजलि विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं द्वारा संगीतमय योग प्रस्तुति के साथ हुआ। कार्यक्रम में पतंजलि अनुसंधान संस्थान की वैज्ञानिक डा.स्वाति हलदर, डी.जी.एम. ऑपरेशन प्रदीप नैन, डा.ऋषभदेव,डा.निखिल मिश्रा,डा.सीमा गुजराल, डा.ज्योतिष श्रीवास्तव, देवेन्द्र कुमावत, संदीप सिन्हा तथा डा.कुणाल भट्टाचार्य का विशेष सहयोग रहा।


Comments

Popular posts from this blog

धूमधाम से गंगा जी मे प्रवाहित होगा पवित्र जोत,होगा दुग्धाभिषेक -डॉ0नागपाल

 112वॉ मुलतान जोत महोत्सव 7अगस्त को,लाखों श्रद्वालु बनेंगे साक्षी हरिद्वार। समाज मे आपसी भाईचारे और शांति को बढ़ावा देने के संकल्प के साथ शुरू हुई जोत महोसत्व का सफर पराधीन भारत से शुरू होकर स्वाधीन भारत मे भी जारी है। पाकिस्तान के मुल्तान प्रान्त से 1911 में भक्त रूपचंद जी द्वारा पैदल आकर गंगा में जोत प्रवाहित करने का सिलसिला शुरू हुआ जो आज भी अनवरत 112वे वर्ष में भी जारी है। इस सांस्कृतिक और सामाजिक परम्परा को जारी रखने का कार्य अखिल भारतीय मुल्तान युवा संगठन बखूबी आगे बढ़ा रहे है। संगठन अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नागपाल व अन्य पदाधिकारियो ने रविवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से  मुल्तान जोत महोत्सव के संबंध मे वार्ता की। वार्ता के दौरान डॉ नागपाल ने बताया कि 7 अगस्त को धूमधाम से  मुलतान जोट महोत्सव सम्पन्न होगा जिसके हजारों श्रद्धालु गवाह बनेंगे। उन्होंने बताया कि आजादी के 75वी वर्षगांठ पर जोट महोत्सव को तिरंगा यात्रा के साथ जोड़ने का प्रयास होगा। श्रद्धालुओं द्वारा जगह जगह सुन्दर कांड का पाठ, हवन व प्रसाद वितरण होगा। गंगा जी का दुग्धाभिषेक, पूजन के साथ विशेष ज्योति गंगा जी को अर्पित करेगे।

बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दलों ने 127 कांवडियों,श्रद्धालुओं को गंगा में डूबने से बचाया

  हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशन, अपर जिलाधिकारी पी0एल0शाह के मुख्य संयोजन एवं नोडल अधिकारी डा0 नरेश चौधरी के संयोजन में कांवड़ मेले के दौरान बी0ई0जी0 आर्मी के तैराक दल अपनी मोटरबोटों एवं सभी संसाधनों के साथ कांवडियों की सुरक्षा के लिये गंगा के विभिन्न घाटों पर तैनात होकर मुस्तैदी से हर समय कांवड़ियों को डूबने से बचा रहे हैं। बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा कांवड़ मेला अवधि के दौरान 127 शिवभक्त कांवडियों,श्रद्धालुओं को डूबने से बचाया गया। 17 वर्षीय अरूण निवासी जालंधर, 24 वर्षीय मोनू निवासी बागपत, 18 वर्षीय अमन निवासी नई दिल्ली, 20 वर्षीय रमन गिरी निवासी कुरूक्षेत्र, 22 वर्षीय श्याम निवासी सराहनपुर, 23 वर्षीय संतोष निवासी मुरादाबाद, 18 वर्षीय संदीप निवासी रोहतक आदि को विभिन्न घाटों से बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा गंगा में डूबने से बचाया गया तथा साथ ही साथ प्राथमिक उपचार देकर उन सभी कांवडियों को चेतावनी दी गयी कि गंगा में सुरक्षित स्थानों में ही स्नान करें। कांवड़ मेला अवधि के दौरान बी0ई0जी0आर्मी तैराक दल एवं रेड क्रास स्वयंसेवकों द्वारा गंगा के पुलों एवं घाटों पर माइकिं

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए