Skip to main content

मानव शव विच्छेदन करते विशेष रूप से मर्मों का ज्ञान के बारे में जानकारी दी


 हरिद्वार।ऋषिकुल राजकीय आयुर्वेद महाविद्यालय में उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय एवं हेमवती नन्दन बहुगुणा चिकित्सा विश्वविद्यालय के संयुक्त तत्वावधान में तीन दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सेमिनार के दूसरे दिन प्रथम सत्र में शव विच्छेदन करते हुए थोरेक्स रीजन में स्थित फैफडे (लंग्स),हृदय का डिसेक्सन किया गया। शव विच्छेदन डिसेक्सन करते हुए आधुनिक चिकित्सा पद्धति के अनुसार भी हृदय और फैफडों की सामान्य स्थिति एवं असामान्य स्थिति होने का विशेष रूप से प्रतिभागियों को डिमोन्सटे सन किया गया। साथ ही साथ आयुर्वेद के अनुसार मर्मों का भी तुलनात्मक डिमोन्स्ट्रैसन करते हुए प्रतिभागियों को यह भी प्रदर्शित किया गया कि किन किन मर्मो पर आघात लगने से मृत्यु का कारण बन सकता  है यदि शरीर के सभी अंगों विशेषकर मर्मों की सामान्य स्थितियों का ज्ञान होगा तो समय रहते हुए प्राथमिक उपचार करते हुए उचित चिकित्सा करायी जा सकती है। आधुनिक एैलोपैथिक पद्धति के तहत दून मेडिकल कालेज के एनाटामी विभाग से प्रोफेसर डा0 पियूष वर्मा एवं उनकी तकनीकी सहायक एवं पी0जी0 स्कोलर लाइव डिसेक्सन डिमोन्स्ट्रैसन कर रहे हैं और साथ ही साथ आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति से ऋषिकुल राजकीय आयुर्वेदिक कालेज के रचना शरीर विभागाध्यक्ष आयोजन सचिव प्रो0(डा0)नरेश चौधरी एवं उनकी स्नात्कोत्तर छात्रों के द्वारा आयुर्वेद के अनुसार तुलनात्मक आयुर्वेद शास्त्रों में जो वर्णन है उसका शवविच्छेदन के माध्यम से विशेष रूप से प्रदर्शन किया जा रहा है। उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो(डा0) सुनील कुमार जोशी ने भी सेमिनार में प्रतिभाग कर रहे सभी प्रतिभागियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि आयुर्वेद में शरीर रचना सम्बन्धी सम्पूर्ण वर्णन सुश्रुत संहिता में किया गया है। डिसेक्सन(शव विच्छेदन) की विधि अत्यन्त प्राचीन है आयुर्वेद के अनुसार शरीर में 700 मांस पेसिया,300 अस्थियां,107 मर्म स्थान और विभिन्न अंग और कौष्टांग है। डा0 सुनील जोशी ने कहा कि इस सेमिनार से प्रतिभागियों को मर्म स्थान चिकित्सा का ज्ञान भी दिया जा रहा है जिससे सभी प्रतिभागियों को सम्पूर्ण चिकित्सीय जीवन में विशेष रूप से तुलनात्मक ज्ञान मिल रहा है जिसका लाभ वह अपनी चिकित्सीय सेवा में जनमानस को दे पायेंगें। द्वितीय सत्र में एबडोमन (पेट)में स्थित सभी अंगों का शव विच्छेदन के माध्यम से प्रदर्शन किया गया। तृतीय सत्र में तीन जापानी डेलिगेट्स-हिरोयुकी बेनिया, शिघो निसिडी, युकी किकुची और दो जर्मनी के डेलिगेट्स -टकाओ ओसिबुची, राजकुमार सम्बन्धम ने भी प्रतिभाग किया गया। जापानी एवं जर्मनी डेलीगेटस ने अपने सम्बोधन में कहा कि हमारे देश में आयुर्वेद चिकित्सा की विशेष जरूरत है। हम भविष्य में शीघ्र ही उत्तराखण्ड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के छात्र-छात्राओं का डेलीगेट्स जर्मनी एवं जापान में भी आमंत्रित करेंगे और आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति का लाभ अपने अपने देश के नागरिकों को दिलाएंगें। सेमिनार के आयोजन सचिव शरीर रचना विभागाध्यक्ष प्रो(डा0) नरेश चौधरी ने अंतिम सत्र में विदेशी प्रतिभागियों को प्रतीक चिह्न देकर सम्मानित किया गया। प्रतिभागियों का धन्यवाद ज्ञापित किया गया।


Comments

Popular posts from this blog

धूमधाम से गंगा जी मे प्रवाहित होगा पवित्र जोत,होगा दुग्धाभिषेक -डॉ0नागपाल

 112वॉ मुलतान जोत महोत्सव 7अगस्त को,लाखों श्रद्वालु बनेंगे साक्षी हरिद्वार। समाज मे आपसी भाईचारे और शांति को बढ़ावा देने के संकल्प के साथ शुरू हुई जोत महोसत्व का सफर पराधीन भारत से शुरू होकर स्वाधीन भारत मे भी जारी है। पाकिस्तान के मुल्तान प्रान्त से 1911 में भक्त रूपचंद जी द्वारा पैदल आकर गंगा में जोत प्रवाहित करने का सिलसिला शुरू हुआ जो आज भी अनवरत 112वे वर्ष में भी जारी है। इस सांस्कृतिक और सामाजिक परम्परा को जारी रखने का कार्य अखिल भारतीय मुल्तान युवा संगठन बखूबी आगे बढ़ा रहे है। संगठन अध्यक्ष डॉ महेन्द्र नागपाल व अन्य पदाधिकारियो ने रविवार को प्रेस क्लब में पत्रकारों से  मुल्तान जोत महोत्सव के संबंध मे वार्ता की। वार्ता के दौरान डॉ नागपाल ने बताया कि 7 अगस्त को धूमधाम से  मुलतान जोट महोत्सव सम्पन्न होगा जिसके हजारों श्रद्धालु गवाह बनेंगे। उन्होंने बताया कि आजादी के 75वी वर्षगांठ पर जोट महोत्सव को तिरंगा यात्रा के साथ जोड़ने का प्रयास होगा। श्रद्धालुओं द्वारा जगह जगह सुन्दर कांड का पाठ, हवन व प्रसाद वितरण होगा। गंगा जी का दुग्धाभिषेक, पूजन के साथ विशेष ज्योति गंगा जी को अर्पित करेगे।

बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दलों ने 127 कांवडियों,श्रद्धालुओं को गंगा में डूबने से बचाया

  हरिद्वार। जिलाधिकारी विनय शंकर पाण्डेय के निर्देशन, अपर जिलाधिकारी पी0एल0शाह के मुख्य संयोजन एवं नोडल अधिकारी डा0 नरेश चौधरी के संयोजन में कांवड़ मेले के दौरान बी0ई0जी0 आर्मी के तैराक दल अपनी मोटरबोटों एवं सभी संसाधनों के साथ कांवडियों की सुरक्षा के लिये गंगा के विभिन्न घाटों पर तैनात होकर मुस्तैदी से हर समय कांवड़ियों को डूबने से बचा रहे हैं। बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा कांवड़ मेला अवधि के दौरान 127 शिवभक्त कांवडियों,श्रद्धालुओं को डूबने से बचाया गया। 17 वर्षीय अरूण निवासी जालंधर, 24 वर्षीय मोनू निवासी बागपत, 18 वर्षीय अमन निवासी नई दिल्ली, 20 वर्षीय रमन गिरी निवासी कुरूक्षेत्र, 22 वर्षीय श्याम निवासी सराहनपुर, 23 वर्षीय संतोष निवासी मुरादाबाद, 18 वर्षीय संदीप निवासी रोहतक आदि को विभिन्न घाटों से बी0ई0जी0 आर्मी तैराक दल द्वारा गंगा में डूबने से बचाया गया तथा साथ ही साथ प्राथमिक उपचार देकर उन सभी कांवडियों को चेतावनी दी गयी कि गंगा में सुरक्षित स्थानों में ही स्नान करें। कांवड़ मेला अवधि के दौरान बी0ई0जी0आर्मी तैराक दल एवं रेड क्रास स्वयंसेवकों द्वारा गंगा के पुलों एवं घाटों पर माइकिं

अयोध्या,मथुरा,वृंदावन मे भी बनेगा महाजन भवन,नरेश महाजन बने उपाध्यक्ष

  हरिद्वार। उतरी हरिद्वार स्थित महाजन भवन मे आयोजित कार्यक्रम में अखिल भारतीय महाजन शिरोमणि सभा के सदस्यों ने महाजन भवन मे महाजन बिरादरी में से पठानकोट की मुकेरियां विधानसभा से भाजपा प्रत्याशी के तौर पर चुने गये विधायक जंगीलाल महाजन का जोरदार स्वागत किया। बताते चले कि जंगी लाल महाजन हरिद्वार महाजन भवन के चेयरमैन, तथा आल इंडिया महाजन शिरोमणी सभा के प्रैसिडेट पद पर भी महाजन बिरादरी की सेवा कर रहें हैं। इस अबसर पर अखिल भारतीय महाजन सभा के चेयरमैन व (पठानकोट) से भाजपा विधायक जंगीलाल महाजन ने कहा कि आल इंडिया महाजन सभा की पद्धति के अनुसार नरेश महाजन जो कि आल इंडिया सभा के सीनियर बाईस चेयरमैन भी है को हरिद्वार महाजन भवन में उपाध्यक्ष तथा हरीश महाजन को महामंत्री निुयुक्त किया। इस अबसर पर जंगी लाल महाजन ने कहा कि हम आशा ये दोनों मिलकर समितिया भी बनायेगे और अन्य सभाओं को जोडकर हरिद्वार महाजन भवन की उन्नति के लिए जो हमारे बुजुर्गों ने जो विरासत हमे दी है उसे आगे बढायेगे। हम चाहते हैं हरिद्वार महाजन भवन की तरह ही मथुरा,बृदांवन तथा अयोध्या मे भी भवन बने। उसके लिए ये दोनों अपना योगदान देगे। इसीलिए